April 20, 2018, 5:07 am
हांगकांग में छुपा बैठा है नीरव मोदी, सरकार ने शिकंजा कसा

हांगकांग में छुपा बैठा है नीरव मोदी, सरकार ने शिकंजा कसा

13,000 करोड़ रुपए की धोखाधड़ी करके देश से फरार हुए घोटालेबाज़ नीरव मोदी का पता चल गया है। जैसे ही ये बात पता चली, विदेश मंत्रालय फौरन सक्रिय हो गया। विदेश मंत्रालय ने हांगकांग प्रशासन से नीरव मोदी की अंतरिम गिरफ्तारी का अनुराध किया है। अब ये तो तय हो चुका है कि नीरव मोदी को भारत लाने में भले ही देर हो जाए लेकिन वह अब दूसरे देश में नहीं भाग सकेगा। विदेश राज्यमंत्री वीके सिंह ने गुरुवार को राज्यसभा में एक प्रश्न के लिखित उत्तर में बताया, 'मंत्रालय ने चीनी जनवादी गणराज्य की हांगकांग विशेष प्रशासनिक क्षेत्र की सरकार से नीरव दीपक मोदी की अंतरिम गिरफ्तारी का अनुरोध किया है। इसके लिए मोदी सरकार ने हांगकांग सरकार को एक विशेष अनुरोध पत्र भी सौंप दिया है। गौरतलब है कि जालसाजी उजागर होने के पहले ही नीरव मोदी, गीतांजलि जेम्स के मालिक मेहुल चौकसी देश छोड़कर भाग गए थे। 16 फरवरी को दोनों को कारण बताओ नोटिस भेजा गया था और इसका एक हफ्ते में जवाब मांगा गया था। विदेश मंत्रालय ने दोनों हीरा व्यापारियों के पासपोर्ट को निलंबित कर दिया था। दोनों के पासपोर्ट दो महीने पहले पंजाब नेशनल बैंक में कई हजार करोड़ रुपये के कथित धोखाधड़ी के लिए सीबीआई द्वारा FIR दर्ज कराने के बाद रद्द किया गया। नीरव मोदी को भारत लाने में मोदी की विदेश नीति बहुत सहायक सिद्ध होगी। चूँकि उसका पासपोर्ट पहले ही रद्द किया जा चुका है इसलिए अब किसी और देश में शरण पाना उसके लिए बहुत मुश्किल होने वाला है। सही मायने में नीरव के मुसीबत भरे दिनों की शुरुआत हो चुकी है। पिछले कई दिनों से भारत को नीरव के बारे में ख़ुफ़िया सूचनाएं मिल रही थीं। भारत सरकार उसकी सही लोकेशन पता लगाने की लगातार कोशिश कर रही थी। जैसे ही नीरव मोदी की लोकेशन कन्फर्म हुई, केंद्र सरकार ने उसके इर्दगिर्द शिकंजा कसना शुरू कर दिया। जिस तरह से विदेश मंत्रालय इस मामले में तेज़ी दिखा रहा है उससे लग रहा है कि नीरव मोदी जल्द ही भारत लाया जाएगा।