राम मंदिर मुद्दे पर फिर एक बार सुब्रमनियन स्वामी का मुसलमानों को लेकर आया हाहाकारी बयान,मचा हडकंप !

स्वामी ने कहा क‍ि मुस्लिम देशों में भी मस्जिद जरूरत के हिसाब से शिफ्ट होती रहती है.

बीजेपी के सीन‍ियर लीडर सुब्रमण्यम स्वामी गुरुवार को सीएम योगी आद‍ित्यनाथ से म‍िलने लखनऊ पहुंचे. मुलाकात के बाद उन्होंने कहा कि सीएम से जो बात हुई है, वो मैं नही बताऊंगा. हां, राम मंदिर वहीं बनेगा और हम कोर्ट में केस भी जीतेंगे. मस्जिद तो कहीं भी बन सकती है. अब दोनों सरकारों का कोई मतलब नहीं है. मैं अकेला ही काफी हूं और मैं राम मंदिर मामले के विरोधी पक्ष से अब अपील नहीं करूंगा, बल्कि ये कहूंगा क‍ि हाेश में आओ.

मीड‍िया से बातचीत में स्वामी ने कहा कि अयाेध्या में राम मंदिर के लिए लड़ना मेरा मूलभूत अधिकार है. मेरा अपना अलग नजरिया और विचार है, मैं तो अब अयोध्या में राम मंदिर निर्माण को लेकर देश के मुस्लिमों से अपील नहीं करूंगा बल्कि मैं उनसे होश में आने की बात कहूंगा.

स्वामी ने आगे कहा कि न्नी वक्फ बोर्ड मस्जिद के लिए नहीं, प्राॅपर्टी के लिए केस लड़ रहा है. मंदिर पर मैं प्राॅपर्टी को लेकर पार्टी नहीं हूं. पैगम्बर मोहम्मद साहब से जुड़ी मक्का में बनी मस्जिद को भी तोड़ा गया. राम मंदिर तो राम जन्मभूमि पर ही बन सकता है, लेकिन ये तो जाह‍िर सी बात है कि मुसलमान चाहे तो कहीं और भी मस्जिद बना सकते है.

Image result for राम मंदिर मुद्दे पर मुस्लिमों से अपील नहीं करूंगा, हाेश में आने को कहूंगा: स्वामी

बता दें कि 28 सितंबर 2010 को सुप्रीम कोर्ट ने इलाहाबाद हाईकोर्ट को इस विवादित मामले में फैसला देने से रोकने वाली पिटीशन खारिज कर दी थी, जिससे फैसले का रास्ता साफ हो गया था और 30 सितंबर 2010 को इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच ने विवादित 2.77 एकड़ की जमीन को मामले से जुड़े 3 पक्षों में बराबर-बराबर बांटने का आदेश दिया था.

हालाँकि बीजेपी, वीएचपी समेत कई हिंदू संगठन विवादित जमीन पर राम मंदिर और सुन्नी वक्फ बोर्ड समेत कई मुस्लिम संगठन वहां मस्जिद होने का दावा करते हैं. हिंदुओं का कहना है कि वह जगह रामजन्म भूमि है, वहां भगवान राम का मंदिर था जिसे मुगल शासक बाबर के सिपहसालार मीर बाकी ने 1528 में तुड़वा दिया और उसकी जगह मस्जिद बनवा दी, जिसे बाद में बाबरी मस्जिद कहा गया.

 

By: Neha Kamal on Friday, May 5th, 2017