इजरायल की ताकत देख चौंक उठी थी दुनिया जब एक बार में ही उड़ा दिए थे इतने फाइटर जेट्स

इजराइल की ताकत देख हैरान हुई पूरी दुनिया !

मुस्लिम देशो में सबसे कट्टर देश इजराइल से एक बड़ी खबर आ रही है . दरअसल इजराइल ने अपनी एयरफोर्स में एक और घातक जेट शामिल कर लिया है . यह फाइटर जेट्स का सबसे न्य और आधुनिक एफ-35 जेट है . इसकी विशेषता यह है कि यह रत के घने अँधेरे में भी सैकड़ो किलोमीटर की ऊंचाई से अपने शिकार को निशाना बना सकता है .

बता दें कि इजराइल एयरफोर्स के लिए यह कोई बड़ी बात नही है . इजरायल ने लगभग 50 साल पहले ही अपनी एयरफोर्स को इतना मजबूत कर लिया था कि उसने एक साथ 8 देशों से केवल 6 दिन में ही जंग जीत ली थी . दरअसल 27 मई को इजिप्ट के राष्ट्रपति अब्दुल नासिर ने घोषणा की थी कि अरब के लोग इजरायल का विनाश चाहते हैं . मई 1967 के अंत में इजिप्ट और जॉर्डन के बीच एक समझौता हुआ कि यदि एक देश पर हमला हुआ, तो दूसरा देश उसका साथ देगा . उसके बाद युद्ध इजरायल-इजिप्ट सीमा पर शुरू हुआ परन्तु जल्द ही यह कई अन्य अरब मुल्कों तक फैल गया.

बता दें कि इस युद्ध में इजराइल के खिलाफ जॉर्डन, इजिप्ट, इराक, कुवैत, सऊदी अरब, सूडान और अल्जीरिया जैसे देश थे . इस युद्ध को “जून-वॉर” के नाम से भी जाना जाता है . 5 जून को जंग शुरू होने से पहले ही इजरायली एयरफोर्स ने इजिप्ट के लगभ जमीन पर ही उड़ा दिए थे . इसे देख अन्य देश काफी घबरा गए थे . इसके बाद तो इजरायल ने अन्य देशों पर भी ताबड़तोड़ हमले शुरू कर दिए और इस तरह युद्ध केवल 6 दिन में ही समाप्त हो गया था .

इजराइल का मानना था कि अगर जीतना है तो युद्ध से पहले ही हमला करना होगा . इसी मकसद को ध्यान में रखते हुए इजरायल ने इजिप्ट सेना के लड़ाकू विमानों पर ताबड़तोड़ हमला शुरू कर दिया और परिणाम यह हुआ कि युद्ध में जीत इजरायल की हुई और गाजा पट्टी उसके कब्जे में आ गई . बता दें कि इस युद्ध में इजरायल के करीबन 1000 सैनिक मारे गए और साढ़े चार हजार घायल हुए . बहुत से इजरायली सैनिकों को बंधक भी बनाया गया . वहीं दूसरी ओर अरब देशों में मौत की संख्या बहुत ज्यादा थी . युद्ध में केवल इजिप्ट के 10-15 हजार सैनिक मारे गए जबकि साढ़े चार हजार के अधिक सैनिकों को बंधक बनाया गया था और जॉर्डन के 6 हजार और सीरिया के करीबन 1000 सैनिक मारे गए थे .