VIDEO : अपनी राशि के अनुसार करें भगवान की पूजा,कभी किस्मत धोखा नहीं देगी !

अगर आप अपनी जन्म राशि के अनुसार अपने देवी-देवताओं की सच्चे मन, पूरी श्रद्धा और विश्वास से आराधना करते हैं तो आपको जीवन में अच्छे परिणाम मिल सकते हैं. इसलिए आज हम आपके लिए लाएं है कुछ ऐसी ही रोचक जानकारियां जिससे आप जान सकते हैं कि किस राशि के व्यक्ति को किस देवी या देवता की पूजा करनी चाहिए ताकि वो अपने जीवन में सफल हो सके.

हिन्दू धर्म में राशियों का बहुत महत्व है लेकिन जिस तरह से इसमें बताया जाता है हमें उस तरह से उसमें कार्य भी करना चाहिए तभी इसका पूरा फल हमें मिल सकता है.ज्योतिष शबिद का निर्माण ‘ज्योति और भविष्य के मेल-जोल से हुआ है, जिसका अर्थ है भविष्य पर ज्योति यानी प्रकाश डालना.इसी प्रकार एस्ट्रॉलजी शब्द का निर्माण ग्रीक भाषा के एस्ट्रोन (Astron) और लॉजिया (logia) के मिलन से हुआ है. एस्ट्रोन का अर्थ है ‘तारा मंडल’ या ‘तारा समूह’ और लॉजिया का अर्थ है अध्ययन.

कुल मिलाकर ज्योतिष या एस्ट्रॉलजी का शाब्दिक अर्थ है आकाशीय पिंडों का मनुष्य के जीवन, मन-मस्तिष्क व व्यवहार पर प्रभाव का अध्ययन और उसके द्वारा भविष्य का अनुमान लगाने की विद्या.आपको आज हम विडियो दिखाने जा रहे हैं जिससे आप आसानी से जान जाओगे की आपकी राशि के हिसाब से आपको किसकी पूजा करनी चाहिए.

वेदों को भारतीय संस्कृति का मूल माना जाता है। वेद सिर्फ धर्मग्रंथ ही नहीं है, बल्कि वह विज्ञान की प्रथम किताब है, जिसमें फिजिक्स, केमेस्ट्री, मेडिकल साइंस व एस्ट्रॉनमी का विस्तृत वर्णन मिलता है। भारतीय ज्योतिष का प्रथम उल्लेख वेदों में मिलने के कारण इसे वैदिक ज्योतिष भी कहा जाता है।

By: hindutva Info Writer on Saturday, August 12th, 2017