भारत-चीन विवाद के बीच अमेरिका का भारत पर बहुत बड़ा ऐलान,दहल उठा पूरा चीन पाक सन्न !

अमेरिका और भारत की दोस्ती इस वक़्त अपने परवान पर है जिस वजह से ना सिर्फ पाकिस्तान परेशान है बल्कि चीन के भी होश उड़े हुए हैं.भारत के साथ अमेरिका की दोस्ती से चीन अंदर ही अंदर से बहुत जला हुआ है लेकिन वो इस बात को बयाँ नहीं कर पा रहा है !

चीन को बहुत बड़ा झटका देते हुए अमेरिका के एक शीर्ष कमांडर ने भारत को उसकी सेना के आधुनिकीकरण में अमेरिकी मदद की पेशकश की है. ये अमेरिका की तरफ से पहली बार हुआ है आज से पहले अमेरिका ने कभी भी भारत के लिए इस तरह की बात नहीं की थी लेकिन जिस तरह से आज चीन अमेरिका को आँखें दिखा रहा है उससे अमेरिका को समझ आ चूका है एशिया में भारत ही एक ऐसा देश है जो चीन का मुकाबला कर सकता है.

उन्‍होंने कहा है कि वे मिलकर भारत की सैन्य क्षमताओं को महत्वपूर्ण और सार्थक तरीके से बेहतर कर सकते हैं. अमेरिकी सेना के शीर्ष कमांडर का यह बयान ऐसे समय में आया है जब भारत और चीन के बीच तल्‍खी बढ़ी है. डोकलाम को लेकर चीन अड़ा हुआ है और भारत भी अपने रूख पर अडिग है.इससे पहले अमेरिका भारत की नौसेना को परमाणु हथियार देने की बात कर चूका है.

मीडिया से मिली जानकारी के अनुसार अमेरिकी प्रशांत कमान या पैकॉम के कमांडर एडमिरल हैरी हैरिस ने कहा, ‘मेरा मानना है कि भारत की सेना के आधुनिकीकरण के लिए अमेरिका मदद को तैयार है. भारत को अमेरिका का प्रमुख रक्षा साझेदार कहा गया है. यह सामरिक घोषणा है जो भारत और अमेरिका के लिए अनोखी है. यह भारत को उसी स्तर पर रखता है जिस पर हमारे कई साझेदार हैं.’

दूसरी तरफ चीन को कमजोर करने का सबसे बड़ा तरीका है अमेरिका और ट्रंप ने निकाल लिया है चीन को आर्थिक रूप से कमजोर किया जाए.अमेरिका ये बात बहुत अच्छे से जानता है और यही वजह है कि चीन को अमेरिका ने अब अपने तरीके से बर्बाद करने का काम शुरू कर दिया है.चीन को ट्रंप से पंगा लेना भारी पड़ा है अब चीन की हालत खराब होना तय है.भारत चीन विवाद पर भी अमेरिका सीधा भारत के साथ खड़ा था और अब चीन के साथ बढती उसकी तल्खी भारत अमेरिका को और पास लेकर आएगी.

आज ट्रंप ने बहुत बड़ा फैसला लिया हैअब चीन पर नकेल कसेंगे ट्रंप, अमेरिका करेगा चाइनीज ट्रेड पॉलिसीज की जांच.अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप चीन द्वारा गलत तरीके से किए जाने वाले व्‍यापार की जांच के लिए एक एग्‍जीक्‍यूटिव ऑर्डर पर साइन करने वाले हैं.इस कदम के बाद से चीन की बर्बादी तय है.कुछ मीडिया रिपोर्ट्स बता रही हैं इससे चीन पर तत्काल प्रतिबन्ध भी लग सकता है.

कुछ मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक ट्रंप के इस कदम से चीन पर तत्‍काल प्रतिबंध लग जाएगा, लेकिन कुछ रिपोर्ट का ये भी कहना है कि क्‍या परिणाम निकलेगा यह जांच खत्‍म होने के बाद ऐसा होगा ? लेकिन इन सबके बीच जो होना तय है वो यह की चीन को आर्थिक रूप से बहुत बड़ा झटका लगेगा.चीन इस समय पहले ही आर्थिक तंगी से परेशां है और यही वजह है वो अपनी दस लाख सैनिकों की छटनी कर रहा है.

जांच का आदेश यूएस ट्रेड एक्‍ट ऑफ 1974 के तहत दिया जाएगा। यह एक्‍ट USTR को अनुमति देता है कि वह किसी अन्‍य देश के कानूनों, नीतियों और कार्यप्रणालियों की जांच करे ताकि यह निर्धारित हो सके कि कहीं उस देश के कानून या नीतियां अतार्किक तो नहीं हैं और अमेरिकी कॉमर्स पर प्रतिकूल प्रभाव तो नहीं डाल रही.

Image result for जिनपिंग

आप किसी भी देश को इस तरह अपने देश में व्यपार करने से नहीं रोक सकते लेकिन चीन एक बदनाम कारोबारी है पूरी दुनिया में यही वजह है ट्रंप ने अपना तरीका निकाला है चीन को अपने देश में व्यपार करने पर बैन करने के लिए !

 

By: hindutva Info Writer on Monday, August 14th, 2017