इन दवाइयों पर हुआ ऐसा खुलासा की आपके उड़ जाएंगे होश ,आम आदमी करता था इनका इस्तमाल लेकिन अब नहीं करेगा !

घटिया साबित हुईं डी कोल्ड टोटल और कॉम्बीफ्लाम जैसी दवाईयां, ड्रग्स रेगुलेटर ने किया था टेस्ट.

कॉम्बीफ्लाम और डी कोल्ड टोटल भारत के लगभग सभी घरों में इस्तेमाल की जानी वाली दवाइयां हैं. लेकिन इन दवाइयों के बारे मे जो खुलासा हुआ है वो बहुत ही हैरान कर देने वाला है. हाल ही में किये गए टेस्ट में इन दवाइयों को बहुत ही घटिया बताया गया है. बता दें कि इसकी चांज सेंट्रल ड्रग्स स्टेंडर्ड कंट्रोल ऑर्गेनाइजेशन  ने की और इसके साथ ही Cipla’s Oflox-100 DT टैबलेट, Theo Asthalin टैबलेट्स और Cadilose solution दवाइयों की गुणवत्ता में भी कमी निकली.

हाल ही में इन दवाइयों के CDSCO  ने जांच के बाद कुल 60 दवाईयों के लिए अलर्ट जारी किया है. कॉम्बीफ्लाम के बैच नंबर A151195 जो कि अक्टूबर 2015 में बनी थी उस पर टेस्ट किया गया था और कॉम्बीफ्लाम पहले भी तीन बार CDSCO द्वारा घटिया बताई जा चुकी है. पहली बार जब कॉम्बीफ्लाम को घटिया बताया गया था तो उसको बनाने वाली कंपनी सनोफी इण्डिया ने कमी वाले सारे बैचों को वापस मंगाया था.

बता दें कि सनोफी इण्डिया कॉम्बीफ्लाम की एक साल की 169।2 करोड़ रुपए की कमाई है. इन दवाइयों के CDSCO  ने जांच के बाद कुल 60 दवाईयों के लिए अलर्ट जारी किया है. Sanofi India  ने इस बारे में जानकारी देते हुए कहा कि साल 2015 में बनी कॉम्बीफ्लाम जांच में फेल हो गयी थी, इसी वजह से उसे ख़राब बताया गया और कहा कि आधिकारिक तौर पर नोटिस मिलने के बाद उनकी तरफ से इस पर एक्शन लिया जाएगा.

यही नही डी कोल्ड टोटल की टेबलेट भी टेस्ट के बाद परीक्षण में फेल हुईं. उसके AD762 बैच नंबर पर परीक्षण किया गया था. हालाँकि इस मामले पर Cipla और Reckitt Benckiser Healthcare India ने कोई भी टिप्पणी नहीं की है.

इस बड़े खुलासे के बाद कई लोगों की नींद उडी हुई है क्योंकि बहुत से लोग इन दवाइयों का इस्तमाल करते थे.

By: Jyoti Kala on Friday, April 21st, 2017

Loading...