आतंकी में खोज रही थी प्यार स्नेहलता, धर्म गवाया, इज्जत गवाई और फिर हुआ ….

अक्सर आप इस तरह के किस्से सुनते आए होंगे जब हिन्दू लड़की ने मुस्लिम लडके से या फिर मुस्लिम लड़की ने हिन्दू लडके से शादी की हो. हालांकि जब भी दोनों धर्मो के लोगों ने आपस में शादी की है तब-तब हंगामे जरुर हुए है जिसमे हर बार किसी न किसी को अपनी जान गवानी पडती है. लेकिन आज जो प्रेम कहानी हम आपको नीचे बताने जा रहे है ऐसी आपने शायद ही पहले पढ़ी होगी.

image credit 

स्नेहलता नाम की हिन्दू लड़की जिसे एक आतंकी अपने प्रेम जाल में फंसा लेता है और फिर दोनों 19 मार्च 2013 को प्रेम विवाह कर लेते है इतना ही नही इसके बाद आतंकी जिसका नाम शमसुद्दीन है वह लड़की का धर्म परिवर्तन करवाने की बात करता है पति के प्यार में अंधी स्नेहलता उसकी हर बात मानती रही बस फिर क्या था स्नेहलता को इस्लाम धर्म कबूल करवाया गया और उसका नाम शमशुन रख दिया गया.

यदि आपको ऐसा लग रहा है कि दोनों सुखी जीवन व्यतीत कर रहे है तो ऐसा बिलकुल नही है आज स्नेहलता अपनी छोटी सी बेटी के साथ अकेले रहती है दरअसल शमसुद्दीन ने अपनी पत्नी स्नेहलता उर्फ़ शमशुन को फोन पर 3 बार तलाक कह दिया जिसके बाद उसकी जिन्दगी नर्क से भी बत्तर बन गयी है.

शमसुद्दीन जैसे लोग ऐसा ही करते है पहले तो भोली-भाली हिन्दू लडकियों को फंसाते है उसके बाद उनसे निकाह करके उनका शोषण कर उन्हें तलाक दे देते है और साथ में उनका धर्म परिवर्तन भी करवा देते है. मुस्लिम युवक को इतनी आज़ादी होती है कि वह अपनी पत्नी को जब उसका मन भर जाए तलाक दे सकता है. फिर चाहे उसकी पत्नी रोए उसके पैर पड़े या फिर मर ही क्यों न जाए उसे कोई फर्क नही पड़ता है.

बेचारी स्नेहलता के साथ भी ऐसा ही हुआ उसे क्या पता था जिस आतंकी को प्यार करके बदलना चाहती है वह उसकी जिन्दगी ही बदलकर रख देगा, धर्म पपरिवर्तन कर स्नेहलता ने अपने परिवार वालों को भी खो दिया है अपनी इज्जत भी खो दी और अब अपना पति भी खो दिया.
By: Thakur Mintu on Monday, July 17th, 2017