क्या आपने कभी जाना है कि भगवान शिव को श्रावण का महीना इतना क्यों पसंद है?

आज से सावन का महिना शुरू हो गया है. आज से हर तरफ बम भोले की गूंज सुनाई देगी.

श्रावण का महिना शुरू होते ही शिव भक्त कावड में जल लाकर भोलेनाथ को चढ़ाते है. लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि भगवान शिव को सबसे ज्यादा प्रिय सावन का ही महिना क्यों होता है?

भोले बाबा का ये मास प्रिय होने के पीछे कई कारण है. सबसे मुख्य कारण है इस माह में पार्वती ने तपस्या करके भगवान शिव को पति रूप में पाने का वरदान प्राप्त किया था. यह वही महिना है  जिसमे शिव-पार्वती एक हुए थे.

इसी माह में शिवजी पृथ्वी पर आये थे. पृथ्वी पर आते ही शिवजी का स्वागत अर्घ्य और जलाभिषेक से किया गया था. ऐसा माना जाता है कि श्रावण के महीने में शिवजी अपने ससुराल यानी पृथ्वी पर आते है. यही कारण है भोलेनाथ का यह माह सबसे प्रिय है और शिव भक्तों के लिए शिव कृपा पाने का उत्तम समय है. सावन के प्रधान देवता शिवजी होते है क्यूंकि इस मास में भगवान शिव योगनिद्रा में चले जाते हैं. 

इसी महीने में सृष्टि के संचालन का उत्तरदायित्व भगवान शिव सँभालते है. सावन के महीने में शिवजी के साथ एक अद्भुत घटना भी घटी थी. जिसके बाद से शिवजी का जलाभिषेक होना आरम्भ हुआ था. इसलिए सावन में भोले बाबा की पूजा अर्चना की जाती है और ये पूजा अधिक फलदाई भी होती है.

By: Staff Writer on Monday, July 10th, 2017