महिला क्रिकेट का एक घिनोना सच : टीम में लेने से पहले कहा -पहले एक रात साथ गुजारो, फिर बल्ला पकड़ना !!

ओह माय गॉड !! महिला क्रिकेट का एक घिनोना सच !

श्रीलंका की महिला क्रिकेटरों ने आरोप लगाया गया है कि चयनकर्ता उन्हें टीम में बनाये रखने के लिए सेक्स की डिमांड कर रहे है.

ये बात 2014 की है. उस समय श्रीलंका की महिला क्रिकेटरों ने अपने चयनकर्ताओं पर यौन शोषण का आरोप लगाया था. उस समय इस खबर ने खलबली मचा दी थी. महिला प्लेयर ने बताया था कि जब उन्होंने सिलेक्टर्स को सेक्स के लिएअफ इंकार किया तो उन्हें टीम से बहार कर दिया गया. हालाँकि कुछ खिलाड़ी इसके बाद सहम गयी थी.

क्रिकेट को सबसे ज्यादा पसंद किया जाता है, सेलेक्टर्स की इस हरकत ने इसको शर्मसार कर दिया. खिलाड़ी ने बिना डरे चयनकर्ताओं की इस हरकत के बारे में टॉप मैनेजमेंट को बताया. प्लेयर की शिकायत के बाद श्रीलंकाई क्रिकेट गवर्निंग बॉडी ने तुरंत ही जांच के आदेश दिए. मामले की गंभीरता को देखते हुए कई बार मीटिंग बुलाई गयी और फिर जांच में तीन अधिकारी संदिग्ध पाए गए थे.

इस मामले में दो पुरुष अधिकारी यौन उत्पीड़न के मामले में आये जबकि एक अनुचित व्यव्हार का दोषी पाया गया था. दोषियों की अंदरूनी जांच से पता चला था कि टीम के दो मैनेजर खिलाडियों से यौन नजदीकियों की मांग कर रहे है. इसी तरह का हादसा 2013 में पाकिस्तान वुमन क्रिकेट टीम के साथ भी हुआ था.

लेकिन उस समय महिला खिलाडियों ने अपने अधिकारियों पर शारीरिक प्रताड़ना का झूठा आरोप लगाया था. इसके कारण उन्हें 6 महीने के लिए बैन कर दिया गया था. इस मामले में करीब पांच खिलाड़ी शामिल थे. पहले अक्सर ऐसे मामले फिल्मों में सुनने को मिला करते थे लेकिन अब क्रिकेट में भी कास्टिंग काउच के मामले सामने आने लगे है.