भारत-चीन डोकलाम के बीच रूस ने लिया बहुत कडक फैसला उड़ाई चीन की नींद,मोदी खुश जिनपिंग हैरान !

चीन हुआ एक ही झटके में सन्न !

चीन को बहुत बड़ा झटका देते हुए डोकलाम विवाद के बीच रूस ने किया ऐसा ऐलान जिससे झूम उठा भारत चीन रह गया हैरान, भारत और रूस के बीच होगा पहला बड़ा सैन्य अभ्यास चीनी मीडिया पर बातें बनना शुरू !

रूस शुरू से बोलता रहा है उसके लिए चीन भी मित्र देश है और भारत भी मित्र देश है.पर अब रूस ने चीन को बहुत बड़ा झटका देते हुए जो सैन्य अभ्यास का फैसला लिया है उससे चीन हैरान है.चीन की तरफ से पहले कहा जा रहा था की रूस ऐसा कोई फैसला नहीं लेगा जो भारत-चीन विवाद के बीच एक तरफा लगे लेकिन रूस ने फिर दुनिया को दिखा दिया की भारत ही उसका सबसे अच्छा दोस्त है.इससे पहले अमेरिका भी भारत के साथ सैन्य अभ्यास का दम भर चूका है.

सुरक्षा हालातों को लेकर अक्टूबर माह में भारत और रूस के तीनों सेना यानी थल सेना, वायुसेना और नौ सेना के बीच होने वाले इस सैन्य अभ्यास का चीन पर बड़ा असर पड़ना तय है.जानकारों की माने तो इस तरह विवाद के बीच रूस का भारत के नजदीक आना चीनी मंसूबों पर पानी फेर सकता है.

रक्षा और कूटनीतिक विशेषज्ञों की मानें तो भारत और रूस के बीच युद्धाभ्यास ऐसे समय पर होने जा रहा है जब चीन सीमा विवाद पर भारत को आंखे दिखा रहा है और चीन भारत पर दबाव बनाने का कोई अवसर चूकना नहीं चाहता है.अब चूंकि रूस काफी समय से भारत का रक्षा क्षेत्र में सहयोगी रहा है. ऐसे में दोनों देशों के बीच बढ़ती नजदीकियां चीन के लिए बड़ा झटका साबित हो सकती हैं.

जानकारों का मानना है कि इससे पूर्व भारतीय मालाबार में अमरीका, जापान और भारत के बीच चले बड़े स्तर के सन्य अभ्यास से भी चीनी नीति नियंताओं को बड़ा झटका लगा था.

आपकी जानकारी के लिए हम बता दें की हाल ही में रूस की तरफ से किए एक और ऐलान से एक बात फिर से साबित हो गयी है और वो यह कि रूस भारत के अच्छे दोस्तों में पहले भी था और आज भी है.चीन के साथ रूस के अच्छे रिश्ते है पाकिस्तान रूस के साथ अच्छे रिश्ते बनाना चाहता है लेकिन भारत की वजह से रूस उसे घास नहीं डालता.दूसरी तरफ रूस के इस ऐलान ने चीन की भी उसकी औकात दिखा दी है.

रूस ने कहा है कि दुनिया में कुछ बेहद खास डिफेंस प्रोडक्ट्स और टेक्नोलॉजी ऐसी हैं, जो सिर्फ वो भारत को दे सकता है, किसी दुसरे देश को हम वो नहीं दे सकते, ये बात रूस के रोस्टेक स्टेट कॉर्पोरेशन के सीईओ सर्गेई चेमेजोव ने कही।

बता दें कि हाल ही में भारत और रूस ने एक अहम डिफेंस डील साइन की है चेमेजोव ने कहा- ये जान लेना जरूरी है कि रूस ही इकलौता ऐसा देश है जो भारत को पूरी तरह मैन्यूफेक्चरिंग टेक्नोलॉजी ट्रांसफर करता है. हम चाहते हैं कि भारत की डिफेंस कंपनियां फुल स्केल पर प्रोडक्शन करें.बता दें कि रोस्टेक में 700 ऐसी कंपनियां ऐसी हैं जो हाईटेक सिविल और मिलिट्री प्रोडक्ट बनाती हैं.इसी कंपनी से भारत ने हेलिकॉप्टर डील भी की है.

कुछ डिफेंस प्रोडक्ट और टेक्नोलॉजी ऐसी जो सिर्फ हम भारत को दे सकते हैं: रूस, national news in hindi, national news

रूस भारत को अब SU-30MKIs और टी-90 टैंक देने जा रहा है,शुरुआती खेप के बाद इन्हें पूरी तरह भारत में ही बनाया जाएगा।