PM मोदी के कपड़ों का ख़र्च कौन उठाता है ? जानेंगे तो आपके होश उड़ जाएँगे , हुआ बड़ा ख़ुलासा !

PM मोदी के कपड़ों को लेकर RTI ने किया बड़ा खुलासा, जानकर विरोधियों के मुहँ पर लग जायेगा ताला..

पीएम मोदी के जुड़ी कई खबरें इन दिनों इन्टरनेट पर छायी हुई हैं जिसमें से कुछ सच हैं तो कुछ झूठ ये बात सभी जानते हैं कि पीएम मोदी काम पर विशवास रखते और इसी के चलते बीजेपी की हर राज्य में जीत होती जा रही है आपने कई बार पीएम मोदी के फोटोज को देखा होगा. देश के विपक्ष के लिए पीएम मोदी का डिज़ाइनर सूट एक बड़ा मुद्दा हैं. विपक्ष हमेशा ये सवाल उठाता है कि पीएम मोदी की महंगे कपड़ों का खर्चा कहाँ से होता है ?

मौजूदा खबर अनुसार बता दें कि विपक्ष के इस सवाल का जवाब देते हुए RTI एक बड़ा खुलासा किया है. वो ये कि मोदी के सूटों का खर्चा सरकार वहन नहीं करती है. दरअसल PM मोदी के देश के प्रधान मंत्री बनते ही सबसे पहले उनके कपड़े विवादों से घिर गए थे. खासतौर से उनका एक सूट काफी विवादों में आ गया था, जो उन्होंने अमेरिका के राष्‍ट्रपति बराक ओबामा की भारत यात्रा के दौरान पहना था. पीएम मोदी के इस बंद गले वाले सूट में उनका पूरा नाम नरेंद्र दामोदर दास मोदी भी लिखा हुआ था.

गौरतलब है कि यह सूट काफी महंगा था विपक्ष का आरोप था की मोदी सरकारी खर्चे पर एक से एक डिज़ाइनर और महंगे सूट्स पहनते हैं, ऐसे में आरटीआई कार्यकर्ता रोहित सब्बरवाल ने सूचना के अधिकार के तहत यह जानकारी मांगी थी कि मोदी के कपड़ों का खर्च कौन उठाता है. तो प्रधानमंत्री कार्यालय की तरफ से दी गई जानकारी में कहा गया कि पीएम मोदी के निजी कपड़ों पर होनेवाला खर्च पीएम अपनी सैलरी से ही उठाते हैं.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि प्रधानमंत्री मोदी के सूट के लिए सरकारी कार्यालय की तरफ से कोई रकम खर्च नहीं की जाती है. RTI कार्यकर्ता सब्बरवाल लंबे समय से आरटीआई डालते रहे हैं. इससे पहले उन्होंने अटल बिहारी वाजपेयी और मनमोहन सिंह के निजी खर्चों से जुड़ी आरटीआई भी डाली थी. सब्बरवाल ने अटल बिहारी वाजपेयी के कार्यकाल में हर साल वाजपेयी के कपड़ों पर होने वाले खर्च का ब्यौरा भी मांगा था.

देखिये वीडियो !!

बताते चलें कि इसी तरह मनमोहन सिंह के कार्यकाल में सिंह के कपड़ों पर हुए खर्च का भी हिसाब सूचना के अधिकार के जरिए मांगा था. बहरहाल बीजेपी पर जो सूट बूट की सरकार का आरोप लगा था वो अब इस जानकारी के बाद निराधार होता दिखाई दे रहा है. बीजेपी ने साफ़ कहा है कि विपक्ष बेकार हंगामा करना छोड़ दे तो बेहतर होगा. RTI का ये जवाब विपक्ष के लिए किसी सदमे से कम नहीं है.