राजस्थान का एक ऐसा रहस्यमयी मंदिर जहां इन्सान पत्थर का बन जाता है !!

ये है मान्यता !!

राजस्थान में ऐसे कई हिन्दू मंदिर है जिनका रहस्य आज तक रहस्य ही है.

रहस्यमयी मंदिर के साथ-साथ यहाँ के मंदिरों की खूबसूरती भी देखने लायक है. इन मंदिरों की सुन्दरता तो आप देख लेते है. लेकिन इनमें छिपे रहस्य कही लुप्त हो जाते है. हम जिस रहस्यमयी मंदिर की बात कर रहे है वो है राजस्थान के बाड़मेर जिले के किराडू में.

इस धार्मिक स्थल को लेकर यह मान्यता है कि यहां पर जो भी व्यक्ति रात को सोता है वो या तो हमेशा के लिए सो जाता है या फिर वह पत्थर की शक्ल ले लेता है. स्थानीय लोग बताते है कि एक साधू के श्राप के श्राप के कारण इस मंदिर को पत्थरों की नगरी में बदल दिया गया था. कुछ लोगों      का मानना है कि मुग़लों के कई आक्रमण झेलने की वजह से ये जगह बदहाल है. 

एक बार एक तापसी साधू अपने शिष्य के साथ यहां विश्राम कर रहे थे. जब वो देशाटन के लिए गए, तो अपने शिष्य को गांववालों के भरोसे छोड़ गये. उन्हें लगता था कि जिस तरह से गाँव वालों ने उनकी सेवा की है, उसी तरह से उनके शिष्य की भी होगी. लेकिन हुआ उनकी सोच के विपरीत. केवल एक कुम्हारन ने ही उनके शिष्य की देखरेख की. 

जब साधू वापिस लौटे तो उन्होंने अपने शिष्य को बीमार देख गाँव वालों को श्राप दे दिया. उन्होंने गुस्से में कहा जहां के लोगों में दया भावना नहीं है, वहां जीवन का क्या मतलब. इसलिए यहां के सभी लोग पत्थर के हो जाएं और पूरा शहर बर्बाद हो जाए. साधू के श्राप के बाद एक कुम्हारन को छोड़ सभी पत्थर के हो गये. साधू ने उस कुम्हारन से कहा कि तेरे ह्रदय में दूसरों के लिए ममता है इसलिए तू यहां से चली जा. 

साधू ने उसे चेतावनी भी दी कि अगर जाते समय तूने पीछे मुड़कर देखा तो तू भी पत्थर की हो जायेंगी. कुम्हारन वहां से फ़ौरन भाग गयी. लेकिन जाते-जाते कुम्हारन के मन में बात आई कि क्या सच में किराडू के लोग पत्थर के हो गए हैं. जब ये देखने के लिए वो पीछे मुड़ी तो खुद भी पत्थर की मूर्ति में बदल गयी. इस साधू के श्राप ने इस देवालय भूमि को पत्थरों के वीराने में बदल दिया.