खुशखबरी:, 7 महीने में पहली बार सस्ता होगा पेट्रोल डीजल,इतने ज्यादा घट गए दाम !

2 रुपए तक सस्ता हो सकता है पेट्रोल-डीजल, आम आदमी को मिलेगी बड़ी राहत…

पेट्रोल और डीजल पर इतनी तेजी से बढ़ी कीमतों से आम आदमी को जल्द राहत मिलने वाली है, पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने मंगलवार को कहा कि पेट्रोल, डीजल के दाम अगले महीने होने वाली GST की बैठक में कम हो जाएंगे, पेट्रोल-डीजल को जीएसटी के दायरे में लाने से दाम काफी कम हो जाएंगे और आम जनता को इससे फायदा होगा.

सीधा असर पेट्रोल-डीजल की कीमतों पर !

इस बारे में सरकार में चर्चा शुरू हो गयी है. इसके अलावा काछे तेल के दामों में भी गिरावट आई हैं, जानकारों के मुताबिक अभी इसमें और गिरावट आने की संभवना हैं. अंतरराष्ट्रीय बाजार में क्रूड की कीमतों में तेजी पर ब्रेक लगा है. कच्चे तेल में पिछले कुछ दिनों में गिरावट देखने को मिली है. सीनियर एनालिस्ट अजय केडिया के मुताबिक, क्रूड की कीमतें 62 डॉलर प्रति बैरल तक गिर सकती हैं.

इसका सीधा असर पेट्रोल-डीजल की कीमतों पर भी दिखेगा. अगर क्रूड 62 डॉलर तक आता है तो पेट्रोल-डीजल की कीमतें 7 महीने पुराने स्तर पर पहुंच जाएंगी. पेट्रोल-डीजल की कीमतों में करीब 2 रुपए का फायदा होगा यानी ये 2 रुपए तक सस्ते हो सकते हैं. पिछले दो दिनों में पेट्रोल की कीमतों में 21 पैसे और डीजल में 28 पैसे प्रति लीटर की कटौती हुई है.

ब्रेंट क्रूड की कीमतों में 10 फीसदी की कमी !

फिलहाल, दिल्ली में पेट्रोल का भाव 73.01 रुपए, कोलकाता में 75.70, मुंबई में 80.87 और चेन्नई में 75.73 रुपए प्रति लीटर है. वहीं, डीजल की बात करें तो दिल्ली में इसका भाव 63.62, कोलकाता में 66.29, मुंबई में 67.75 और चेन्नई में 67.09 रुपए प्रति लीटर पहुंच गया है. दिसंबर के बाद से ब्रेंट क्रूड की कीमतों में 10 फीसदी की कमी आई है.

अब क्रूड की कीमतें 80 डॉलर के पार पहुंचने का खतरा नहीं है. अजय केडिया के मुताबिक, अमेरिका ने कच्चे तेल का उत्पादन बढ़ाया है. साथ ही ग्लोबल मार्केट में क्रूड की डिमांड में कमी आई है. यही कारण है कि क्रूड की बढ़ती कीमतों पर ब्रेक लगा है. हालांकि, क्रूड का इतिहास रहा है कि इसमें उतार-चढ़ाव काफी तेजी से होता है.

वहीं पेट्रोल डीजल के दामों के कम होने की खबर से विपक्ष के चेहरे पर मायूसी छा गई है. क्‍योंकि गुजरात चुनाव के दौरान कुछ ही मुद्दे तो मिले थे. मोदी पर कीचड़ उछालने के लिये, उनमे से एक मुद्दा हाथ से निकल गया.हालांकि मोदी सरकार इन सब को पीछे छोड़ते हुये जनता की उम्‍मीदों पर खरा उतरने का काम किया है, इसमे कोई दो राय नही है.

अगर आपको दी गई जानकारी पसंद आई तो ऐसी ही और खबरों के लिए हमें फ़ॉलो कीजिए।