टी20 टीम से बाहर होंगे धोनी? लक्ष्मण, अगरकर के बाद अब सौरव गांगुली ने दिया बड़ा बयान !

वीवीएस लक्ष्मण, अजीत अगरकर के बाद अब सौरव गांगुली के ब्यान बन रहे है धोनी के लिए खतरे की घंटी !

भारत के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी की गिनती भारत ही नही बल्कि विश्व के सबसे सफल कप्तानो में की जाती है . धोनी विश्व के एकमात्र ऐसे कप्तान है जिनके नेतृत्व में उनकी टीम ने आईसीसी के सभी ट्राफियां जीती है . माही एक धाकड़ बल्लेबाज तो हैं कि साथ ही साथ एक बेहतरीन मैच फिनिशर भी है ओर यदि बात की जाए उनकी विकेटकीपिंग की तो इसमें टो उनके मुकाबले में दूर दूर तक कोई नजर नही आता है .

आपको बता दें कि दूसरे टी20 में न्‍यूजीलैंड के खिलाफ धीमी बल्‍लेबाजी के कारण धोनी पूर्व क्रिकेटर वीवीएस लक्ष्‍मण और अजित अगरकर के निशाने पर आ गए थे  और अब सौरव गांगुली ने माही को लेकर बड़ा बयान दे दिया है उन्होंने कहा है कि टीम मैनेजमेंट को धोनी से बैठकर बात करनी चाहिए और धोनी को सुधार के लिए पर्याप्‍त मौका मिलना चाहिए . गांगुली ने कहा कि धोनी t20 क्रिकेट में बड़ा नाम है इसलिए कोई भी फैसला लेने से पहले उन्‍हें एक बार सुधार का मौका मिलना चाहिए .

उन्होंने आगे कहा किअब समय आ गया है कि टीम को 2019 वर्ल्‍ड कप पर ध्यान देना होगा और यदि भविष्‍य में धोनी के प्रदर्शन में सुधार नहीं होता तो उन्‍हें दूसरे विकल्‍पों की तरफ देखना होगा . दरअसल  पहले वीवीएस, अगरकर और अब गांगुली के इन बयानों से साफ़ हो गया है कि धोनी कि 2019 की राह बहुत ही मुश्किल होने वाली  है .

दूसरी तरफ कप्तान कोहली धोनी के समर्थन में आये और बोले कि मैं यह समझ नही पा रहा हूँ कि लोग उन पर ऊँगली क्यों उठा रहे है . धोनी कि जगह यदि मैं तीन बार अपनी क्षमता को साबित नही कर पाता हूं, तो कोई भी मुझ पर उंगली नहीं उठाएगा, ऐसा क्यों ? केवल इसलिए क्योंकि मैं 35 साल का नहीं हूं .

कोहली ने आगे बोला कि माही बिलकुल फिट है और सभी फिटनेस टेस्ट पास करके ही मैच खेल रहे है. वह हर तरीके से टीम को अपना योगदान दे रहे है . फिर चाहे टो कठिन समय में बल्लेबाजी हो या अंतिम ओवर में गेंदबाजी का निर्णय लेने में टीम की हमेशा मदद करते है . विराट ने आगे बोलते हुए कहा कि यदि आप श्रीलंका और आस्ट्रेलिया के खिलाफ खेली गई सीरीज को देखें, तो उनके बेहतरीन प्रदर्शन को जान पाएंगे .

भारतीय कप्तान ने कहा कि जरूरी नहीं हैं कि वह हर मैच में बेहतरीन प्रदर्शन कर पाएं . उन्होंने पिछले मैच कि याद दिलाते हुए कहा कि यदि दिल्ली वाले में देखा जाए तो उन्होंने आते ही जो छक्का मारा था उसे मैच के बाद भी कई बार दिखाया जा रहा था . जिसे देख हर कोई खुश था और अब यदि वे एक मैच में अच्छा स्कोर नहीं कर पा रहे हैं, तो सभी उनके पीछे ही पड़ गए हैं जोकि बिलकुल गलत है .
By: Jyoti Kala on Thursday, November 9th, 2017