सिर्फ 1 गेंद में 21 रन – क्रिकेट जगत का सबसे हैरान करने वाला रिकॉर्ड, देखिये वीडियो !

क्रिकेट इतिहास में नहीं देखा होगा ऐसा मैच !

दुनिया के किसी भी खेल से ज्यादा क्रिकेट को पसंद करने वाले लोग सबसे ज्यादा है. भारत में तो हर बच्चे के हाथ में बल्ला होता है और दिल में क्रिकेट के भगवान सचिन तेंदुलकर. देखा जाए तो क्रिकेट का इतिहास इतना पुराना है कि क्रिकेट के बारे में सब कुछ जान पाना लगभग नामुमकिन है. ऐसे में क्रिकेट के मैदान पर आए दिन कोई न कोई ऐसा रिकॉर्ड बन ही जाता है जिसे सदियों तक याद रखा जाता है.

मौजूदा खबर अनुसार बता दें कि क्रिकेट के खेल में कई रिकॉर्ड बनते और टूटते रहते हैं. लेकिन आज हम आपको उस रिकॉर्ड के बारे में बताएंगे जो शायद ही आपने सुना या फिर देखा होगा. आज हम आपको बताएंगे जब क्रिकेट के खेल में 1 गेंद में 21 रन बन गए थे. आखिर किसने दिया था इस कारनामे को अंजाम और कौन सा था वो खिलाड़ी ? इस हैरान करने वाले रिकॉर्ड के बारे में शायद ही आपने आज से पहले कभी सुना होगा..

देखिये वीडियो !!


बता दें कि ऑस्ट्रेलिया की टीम दक्षिण अफ्रीका के दौरे पर थी. दोनों टीम के बीच 5 मैचों की वनडे सीरीज का फाइनल मुकाबले खेला जाना था. सीरीज के पहले 4 मैच दोनों टीमों ने 2-2 जीत लिए थे और आखिरी मैच जीतने वाली टीम ही सीरीज को अपने नाम कर लेती. इस मुकाबले में ऑस्ट्रेलिया ने पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया. ऑस्ट्रेलिया के सलामी बल्लेबाजों ने टीम को धमाकेदार शुरुआत दिलाई और इस शुरुआत का टीम के मिडिल ऑर्डर ने पूरा फायदा उठाया था. 

गौरतलब है कि कप्तान रिकी पोंटिंग ने एक छोर से तेजी से रन बनाए और एंड्रू सायमंड्स ने भी अपने कप्तान का अच्छा साथ दिया. दोनों बल्लेबाजों ने अपनी टीम को मजबूत स्थिति मे पहुंचा दिया. दक्षिण अफ्रीका की तरफ से पारी का 48वां ओवर फेंकने आए गेंदबाज टेलेमाकुस. टेलेमाकुस के सामने बल्लेबाज थे पोंटिंग. टेलेमाकुस ने अपने एक ओवर में 4 नो बॉल फेंकी जिसका भरपूर फायदा ऑस्ट्रेलिया ने उठाया. कप्तान पोंटिंग ने सायमंड्स के साथ मिलकर इतिहास रच दिया था.

दरसल, टेलेमाकुस ने 1 गेंद में कुल 21 रन ठुकवा दिए थे. टेलेमाकुस के गेंदबाजी आंकड़े (Nb4, Nb1, Nb4, Nb6, 2) रहे थे. जब वो एक के बाद एक नो बॉल फेंक रहे थे तब उनकी आँखों से आंसू झलक पड़े थे. लेकिन टेलेमाकुस ने हिम्मत करके फिर से गेंद फेंकी जो इस बार सही थी, लेकिन इस गेंद पर सायमंड्स ने 2 रन दौड़े और इस तरह ये विशाल ओवर समाप्त हुआ. दक्षिण अफ्रीका को अब उस टारगेट का पीछा करना था जो अपने आप में इतिहास बन चूका था.

बताते चलें कि ऑस्ट्रेलिया ने मुकाबले में 434 रनों का विशाल स्कोर खड़ा किया था और वनडे क्रिकेट के इतिहास में पहली बार 400 रनों के आंकड़े को छूने वाली टीम भी बन गई थी. हालांकि बाद में दक्षिण अफ्रीका के बल्लेबाजों ने धमाकेदार बल्लेबाजी की और वो इतने बड़े स्कोर के सामने झुके नहीं. अंत में इस बेहद रोमांचक मुकाबले को दक्षिण अफ्रीका की टीम ने अपने नाम कर लिया था. टेलेमाकुस को इस बात की बेहद खुशी रही होगी कि उनकी टीम जीत गई वरना हार का जिम्मेदार कोई और नहीं बल्कि वो खुद होते.