जानिये सरकार की GST पर नई नीति , किन वस्तुओ पर लगेगा टैक्स और क्या होगा टैक्स फ्री !

वस्तु एवं सेवा कर (GST)  परिषद ने आम आदमी के दैनिक उपभोग की वस्तुओ और सेवा कर की प्रणाली के अंतर्गत 1 जुलाई 2017 से देशभर में खाद्यान्न सस्ते होंगे !

देशभर में केंद्र सरकार ने एक राष्ट्र , एक कर की अवधारणा को साकार करने के उद्देश्य से वस्तु एवं सेवा कर व्यवस्था लागू करने की चल रही तैयारियों के बीच GST परिषद ने 6 वस्तुओ को छोड़कर सभी 1211 वस्तुओ की दरे तय कर दी है बता दें वित्त मंत्री अरुण जेटली की अध्यक्षता में यहाँ चल रही GST परिषद की 2 दिवसीय बैठक के पहले दिन इन वस्तुओ पर कर की दरे तय कर दी गयी जिसमे 81% वस्तुओ पर GST दर 18% से कम है .

अरुण जेटली ने कहा है कि  “हमने ज्यादातर वस्तुओ के लिए कर दरो और छूट सूची को अंतिम रूप दे दिया है उन्होंने कहा है कि बैठक के पहले दिन 1211 में से 6 चीजो को छोड़कर बाकी सभी वस्तुओ के लिए GST दर तय कर ली गयी है”

image credit 

आपकी जानकारी के लिए बता दें मिठाई, खाद्य तेल, चीनी, चायपत्ती, कॉफ़ी को 5% टैक्स स्लैब में रखा गया है और हेयर ऑइल, टूथपेस्ट व् साबुन पर 18% टैक्स लगाया जाएगा . अभी इन पर 28%टैक्स लगता है कोयले और मसालों पर भी अब 5% टैक्स लगेगा, इसके अलावा एंटरटेनमेंट पर 18 पर्सेंट टैक्स लगेगा इसके साथ ही दवाइयों को भी 5% टैक्स स्लैब में रखा जाएगा .

केंद्र सरकार द्वारा विस्तार पूर्वक बदली जा रही नीतियां :-

जानिये दुनिया में कितने फीसदी तक है GST ?

बता दें GST अभी तक 150 देशो में लागू हो चूका है हालांकि हर देश के रेट अलग-अलग है इनमे से जापान में 5%, सिंगापुर में 7%, जर्मनी में 19%, फ्रांस में 19.6% है तो वहीँ स्वीडन में 25% है ऑस्ट्रेलिया में 10%, कनाडा में 5%, न्यूजीलैंड में 15% और पाकिस्तान में 18% है

GST कर को अब तक कितने राज्य पास कर चुके है ?

GST को अबतक 10 राज्यों की विधानसभा द्वारा पास किया गया है इनमे तेलगाना, बिहार, राजस्थान, झारखंड, छत्तीसगढ़, उतराखंड, मध्यप्रदेश, उतरप्रदेश, आंध्रप्रदेश व् हरियाणा शामिल है इसके अलावा 19 राज्यों में अभी GST पास होना बाकी रह गया है

जानिये कितने तरह के है GST और इनके मायने क्या है ?

1 सेंट्रल GST ( CGST ) :- इस कर को केंद्र सरकार वसूल करती है
2 स्टेट GST ( SGST ) :- इसे राज्य सरकार वसूल करती है
3 इंटिग्रेटेड GST ( IGST ) :- यदि कोई कारोबार 2 राज्यों के बीच होगा तो उस पर यह टैक्स लगेगा, इसके केंद्र सरकार वसूल कर दोनों राज्यों में बाँट देगी .
4 यूनियन टेरेटरी GST :- यूनियन गवर्नमेंट द्वारा एडिमिनिस्ट्रेट किए जाने वाले गुड्स सर्विस या फिर दोनों पर लगेगा, इसे सेंट्रल गवर्नमेंट ही वसूल करती है

By: Thakur Mintu on Friday, May 19th, 2017

Loading...