नगरोटा अटैक – सैनिकों की पत्नियों की बहादुरी से ऐसे टला बड़ा खतरा !

उरी हमले के बाद एक बार फिर आतंकियों ने पिछले कल ( मंगलवार ) नगरोटा में 16 कोर मुख्यालय के पास वाले सैनिक शिविर पर सबसे बड़ा आतंकी हमला किया . आपको बता देते है कि पिछले कल आतंकियों ने सैनिको पर डबल अटैक किया है जिसमे से पहला हमला जम्मू के नगरोटा में सैनिको पर किया गया और इसके साथ दूसरा सांबा में बीएसएफ पर किया गया .

आतंकियों द्वारा नगरोटा में किए गये हमले में 7 जवानो के शहीद होने की खबर मिली है जिसके बदले भारतीय सैनिको ने भी उनका जबाब देते हुए 6 आतंकियों को ढेर कर दिया है .

18-1480387257-130824-khaskhabar

बंधक बनाना चाहते थे आतंकी मगर ….

भारतीय सेना ने इस हमले के बाद दिए अपने बयानों में बताया है कि मंगलवार की सुबह ही आतंकी हथियारों से लदे हुए फायरिंग करते हुए और ग्रेनेड फेंकते  हुए ऑफिसर्स मेस कॉम्प्लेक्स में घुस आए थे और भारतीय सैनिको पर लगातार गोलियां बरसाने लगे जिसमे एक अफसर और 3 जवान शहीद हो गये थे .

इसके बाद आतंकी अगली 2 इमारतो में दाखिल हुए जहाँ आर्मी ऑफिसर अपने परिवार के साथ थे जिसमे 12 सैनिक 2 महिलाएं व 2 बच्चे शामिल थे .लेकिन सभी को वहां से सुरक्षित निकाल लिया गया था .

ऐसे दिखाई जवानो की पत्नियों ने बहादुरी …

मीडिया के मुताबिक जब अफसरों को हमले के बारे में पता चला तो उनकी पत्नियों ने बड़ी हिम्मत दिखाते हुए घरो के दरवाजों को भारी सामानों से बंद कर दिया ताकि कोई भी वहां आसानी से पहुँच न सके .

सैनिको ने बताया है कि अगर उनकी पत्नियाँ बहादुरी दिखाकर दरवाज़े बंद नही करती तो उन्हें अभी तक बंधक बना लिया गया होता .

By: Thakur Mintu on Wednesday, November 30th, 2016