मुस्लिम महिला के सपने में आये शिव और फिर किया ऐसा काम कि …शिव ही शिव हो गया !!

यूपी के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव जो की हिन्दू-मुसलमान पे राजनीती करते है, उन्हें इस महिला से कुछ सीखना चाहिए. इस मुस्लिम महिला ने वो कर दिखाया जिसे करने के लिए बड़े साहस की ज़रुरत होती है. साल 2004 में नूर फातिमा नाम की इस महिला के सपने में शिव आये. इन्होने इस सपने को नज़रंदाज़ कर दिया लेकिन जब कुछ दिनों बाद इनके पति की एक दुर्घटना में मौत हो गयी तो इन्हें लगा की शायद वो सपना इस दुर्घटना का एक संकेत था. बस फिर क्या था, नूर फातिमा ने फ़ौरन शिव मंदिर बनवाने की ठानी और कुछ ही महीनों में मंदिर बनवा कर सार्वजानिक भी कर दिया.

ये शिव मंदिर वाराणसी में है और पिछले 12 सालों से सार्वजानिक है. इन्होने ये मंदिर बनवाने के लिए अपने पैसों से ज़मीन खरीदी और अपना ही सारा पैसा इस मंदिर के निर्माण पे लगाया. नूर फातिमा वैसे पेशे से एक वकील है और पिछले 20 सालों से वाराणसी में वकालत कर रही है. आपको बता दे की नूर फातिमा महिलाओं का केस निशुल्क लडती है जो की अपने आप में एक बड़ी बात है.

नूर फातिमा ने ये भी बताया की जब से ये मंदिर बनवाया है तब से कोई अनहोनी नहीं हुई. उन्हें भगवान् शिव में अपार श्रद्धा है और वह निरंतर इस मंदिर में शिव के दर्शन के लिए आती है. इस मुस्लिम महिला ने शिव मंदिर बनवाकर उन सभी मौलानाओं के मुंह बंद कर दिए है जो ज़रा ज़रा सी बात पे फतवे ज़र्री कर देते है. नूर फातिमा ने इस मंदिर के निर्माण के साथ उन सबकी बोलती बंद कर दी है

By: Vishal Kashyap on Friday, February 24th, 2017

Loading...