मुस्लिम धार्मिकों संगठनो के बीच हुई भयंकर लड़ाई , इस्लाम के नाम पर पैसे की लूट का बड़ा खेल

यूँ तो इस्लाम के अनुयायी आज पूरी दुनिया में एक ख़ास नजर से देखे जाने लगे हैं. ऐसा उनके साथ बिना किसी कारण के नहीं वल्कि दुनिया में बढ़ते आतंकवाद के पीछे जुड़े इन कट्टरपंथियों का होना ही इस कारण को विशेष कारण में बदलता है . जिसके चलते आज ये धर्म दुनिया की नजरों में एक अलग पहचान रखता है जिसके चलते हाल ही में अमेरिका जैसे शक्तिशाली मुल्क ने अपने मुल्क में आने वाले बाहरी मुस्लिम देशों के लोगों पर बैन लगा दिया है . लगाए भी क्यूँ नहीं ? क्यूंकि जिस तरह से भारत में भी आये दिन इनके कारनामे देखने को मिलते ही रहते हैं . इनको लड़ने के लिए कोई दुसरा न मिले तो आपस में ही लड़ाई शुरू कर देते हैं .

जैसे अभी हाल ही में इनके दो प्रमुख संगठनो दारुल उलूम देववंद और तबलीगी जमात के बीच भयंकर युद्ध छिड़ा हुआ है . जो किसी भी कीमत पर रुकता हुआ  दिखाई नहीं दे रहा .  जमात से सम्बंधित एक मौलाना ने दारुल उलूम देववंद पर आरोप लगाया है कि उन्होंने करोड़ों रुपये का घोटाला किया है . इतना ही नहीं मौलाना ने देववंद का पर्दाफ़ाश करे हुए कहा की यह लोग फतवों के नाम पर लाखों रुपये की सौदेबाजी करते हैं . और ये मुफ़्ती लोग मोटी रकम लेकर फतवे निकाल देते हैं. यानी सब ओन डिमांड उपलब्द करवा देते हैं. बशर्ते कीमत अच्छी मिल जाए .

मौलाना ने फेसबुक से स्क्रीनशॉट के माध्यम से ली गई तस्वीरों के साथ दारुल उलूम देववंद पर निशाना साधते हुए लिखा कि क्या कोई बता सकता है की देववंद को कौन सा बड़ा उस्ताद हदीस जसासा का जानकार है ? और एक और पोस्ट में बड़ा आरोप लगाते हुए लिखा , दारुल उलूम देववंद के किस उस्ताद पर करोड़ों रुपये की हेराफेरी का आरोप है ? हैरानी की बात तो यह है की अभी तक मौलाना अरशद के इन आरोपों पर देववंद की तरफ से कोई खंडन नहीं किया गया है .  मौलाना अरशद ने सवालों की बौछार जारी रखते हुए आगे यह भी पूछा की देववंद में ऐसे कौन से लोग हैं जो दलाली का काम करके प्रवेश दिलवाते हैं? उन्होंने कहा बहुत जल्द हम उन लोगों के नाम देश दुनिया को बताएँगे जो करोड़ों रुपये खर्च कर मनचाहे फतवे निकलवाते हैं . वहीँ दूसरी तरफ के कुछ लोगों ने कहा की यह आरोप बिलकुल गलत है .

जबकि तबलीगी जमात के लोग खुलेआम देववंद के विरोध में मैदान में उतर आये हैं. मेरठ में 2000 तबलीगी लोगों के सम्मलेन में इनके नेताओं ने खुल कर धमकी देते हुए कहा था . की जो मुसलमान देववंद का साथ देंगे उनको हम मार देंगे . तबलीगी नेताओं के हौंसले इसलिए भी बुलंद नजर आ रहे हैं . क्यूंकि उनकी लोकप्रियता मुसलमानों के अंदर बड़ी तेजी से बढ़ रही है . जिसको देखते हुए सहज ही अंदाजा लगाया जा सकता है की आने वाला समय इन दोनों के बीच के झगडे से मुसलमानों को एक बड़ी हानि पहुंचा सकता है

By: rana sanjay on Tuesday, February 14th, 2017