पूर्व इमाम ने ख़ुद कहा मानव बनने का उद्देश सिर्फ वेदों में है, जो किसी और मजहबी किताबों में नहीं !!

मेरठ के बरवाला की बड़ी मस्जिद के पूर्व इमाम जो अब उच्च पंडित महेंद्र पाल आर्य के नाम से जाने जाते है उनका कहना है कि मानव बनने का उद्देश केवल वेदों में, अन्य कोई मजहबी किताब में मनुष्य को मनुष्य बनाना नहीं सिखाती है. हालाँकि महेंद्र पाल आर्य इस्लाम को भलीभांति जानते है क्यूंकि वो बड़ी मस्जिद के इमाम रह चुके है. पिछले 20 सालों में वेदों के ज्ञान के माध्यम से महेंद्र पाल आर्य लगभग 20 लाख मुस्लिमों को सनातन धर्म में वापिस ला चुके है ।

अब कट्टरपंथी मुस्लिम धर्मगुरु जाकिर नाईक ये कैसे बर्दाश्त कर सकता था. जाकिर नाईक महेंद्र पाल आर्य को लिखित चुनौती भेज चूका है लेकिन जाकिर नाईक महेंद्र पाल आर्य से मुंह छुपायें घूमता है. दरअसल जाकिर नाईक ने ये चुनौती दे रखी है कि अगर जाकिर हारा तो वो सनातन धर्म अपना लेगा और अगर  महेंद्र पाल आर्य हारा तो वो इस्लाम धर्म अपना लेगा. जाकिर नाईक जानता है महेंद्र पाल आर्य को हरा पाना नामुमकिन है क्यूंकि पहले ही कई मौलवियों को सनातन धर्म स्वीकार करवा चुके है ।

हार के डर से जाकिर नाईक भीगी बिल्ली बना हुआ है, उसे डर है कि कही वो महेंद्र पाल आर्य से हार ना जाएं तो उसे जबरन सनातन धर्म स्वीकार करना पड़ेगा । नीचे दी गयी विडियो में सुने महेंद्र पाल आर्य के सनातन धर्म के प्रति क्या विचार है ।