इजराइल से आए इस उपहार की मदद से भारत पाकिस्तान का काम तमाम कर देगा !!

पाकिस्तान अब भारत पर हमला करने से पहले 1000 बार सोचेगा क्यूंकि अगर पाकिस्तान ने अब सपने में भी भारत पर हमला करने की सोची तो इजराइली अवाक्स यानी अर्ली वार्निंग सिस्टम तुरंत ही भारत को सूचना दे देगा ।  इतना ही नहीं सुचना मिलते ही भारत दुश्मनों की मिसाइलों पर हमला करके उन्हें नेस्तनाबूत कर देंगी । अब हम आपको बताते है इजराइली के बेहतरीन सिस्टम अवाक्स से कैसे भारत को पहले ही किसी भी हमले की पहले ही सुचना मिल जाया करेगी  ।

बता दें कि जैसे ही पाकिस्तान और कोई भी दुश्मन देश जमीन, समुंद्र या हवा से भारत पर हमला करेगा वैसे ही ये इजराइली अवाक्स यानी अर्ली वार्निंग सिस्टम कंमाड आॅफिस को सूचना दे देगा । पहले दुश्मनों के सीमा पर आने के बाद पता लगता था लेकिन अब दुश्मनों के घर से निकलते ही खबर लग जायेगी । ये प्रणाली वास्तव में बेहद ज़ोरदार है ।

  • ग़ौरतलब है कि भारत दक्षिण एशिया का एकमात्र ऐसा देश है जिसके पास हवाई चेतावनी और नियंत्रण प्रणाली वाले जहाज है । भारत के ये जहाज दुश्मन की हर हरकत पर नजर गड़ाएं रखते है और हर एक सेकंड की खबर कंट्रोल रूम को देते है । चीन के पास भी अभी तक ये तकनीक नहीं आयी है ।
  • इजराइल की एक और देन फाल्कन रडार भारत के लिए बहुत शक्तिशाली है । चीन ने इजराइल से इसको छिनने की बहुत कोशिश की लेकिन नाकाम रहा. ये फाल्कन रडार किसी जंगी जहाज से कम नहीं है । इसकी नजर जमीन हवा और पानी पर एक साथ रहती है । इससे पाकिस्तान की हर एक हरकत का पता लगाया जा सकता है फिर चाहे वो पाकिस्तानी सेना की बार्डर पर हो या रावलपिंडी में हो या स्वात घाटी में हों । फाल्कन बिना अपनी जगह छोड़े दुश्मनों के जहाजों और मिसाइलों पर निगरानी रख सकता है । फाल्कन में रक्षात्मक एवम् आक्रामक दोनों क्षमताएं है. इतना ही नहीं फाल्कन को ये भी पता चल जाता है कि मिसाइल दुश्मन देश की है या किसी दोस्त मुल्क की  ।

सबसे बड़ी बात ये है कि फाल्कन में चारों ओर सेंसर लगे हुए है जिससे वो चारों तरफ की हरकत पर निगरानी रख सकता है । यही नहीं फाल्कन हर मौसम में काम करता है । चीन और पाकिस्तान इस सिस्टम से बच नहीं पायेंगे क्यूँकि इस सिस्टम के बाद यदि भारत चाहेगा तो वो ये भी पता लगा सकता है कि पाकिस्तान में नवाज़ शरीफ़ के दफ़्तर के बाहर कितनी कारें खड़ी हैं । बताते चलें कि इसराईल के साथ भारत की इन रक्षा उपकरणों की डील हो चुकी है और इनकी आपूर्ति 2018 तक हो जाएगी  ।

By: Staff Writer on Wednesday, January 4th, 2017