कहीं आपके जूते चप्पल आपको बर्बाद तो नही कर रहे !

कहीं आपकी बर्बादी का कारण आपके जूते-चप्पल तो नहीं !

कहीं आपकी बर्बादी का कारण आपके जूते-चप्पल तो नहीं…

दोस्तों आप सब तो जानते हैं कि व्यक्ति की पहचान उसके जूतों से होती है, कोई कितने भी अच्छे कपड़े पहन ले, लेकिन अगर उसके जूते ठीक न हों तो व्यक्ति को समाज में महत्ता भी नहीं दी जाती. इसी संदर्भ में एक कहावत भी है की जूते ही व्यक्ति की छवि बताते हैं. ज्योतिषशास्त्र में मानव जीवन की धुरी हर वस्तु पर किसी न किसी ग्रह को संबोधित करती है. यहां तक की जूतों पर भी किसी न किसी ग्रह का अधिपत्य बताया गया है.

हमारे जूतों का संबंध शनि ग्रह से होता है !

ज्योतिषशास्त्र के अनुसार मानव जीवन की हर चीज, किसी न किसी ग्रह से जुड़ी हुई है और इसी क्रम में हमारे जूते भी आते हैं. ज्योतिषशास्त्र कहता है कि हमारे जूतों का संबंध शनि ग्रह से होता है. इसलिए सलाह दी जाती है कि जिनके शनि अनुकूल नहीं चल रहे हैं, उन्हें जूते दान करने चाहिए. वास्तुशास्त्र के अनुसार आपको अपने घर में जूते या फिर जूतों का रैक उत्तर-पूर्व दिशा में नहीं रखना चाहिए.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि ऐसा इसलिए कहा है कि इस दिशा से ही घर में सूर्य का प्रवेश होता है और ऐसे में ये जूते घर में सकारात्मक उर्जा के प्रवेश को बाधित कर सकते हैं. वास्तुशास्त्र हमें बताता है कि, व्यक्ति के जूते, उसके भाग्य के संदर्भ में काफी अहमियत रखते हैं. इसके मुताबिक, कोई शख्स अपने पैरों का जिस हिसाब से ख्याल रखता है. उसे जीवन में मिलने वाले मौकों पर इसका खास असर पड़ता है.

कभी भी गिफ्ट में मिला हुआ जूता नहीं पहनना चाहिए !

मान्यता है कि कभी भी गिफ्ट में मिला हुआ जूता नहीं पहनना चाहिए. इसकी वजह यह है कि तोहफे में मिला जूता पहनने से भाग्य का साथ मिलना बंद हो जाता है. यह करियर के लिए अच्छा नहीं होता. कुछ ऐसे जुते जो दुर्भाग्य का सूचक होते हैं, जिनको पहनने से व्यक्ति के जीवन में आर्थिक और कार्यक्षेत्र से संबंधित समस्याएं उत्पन्न हो जाती हैं. ऐसे जूतों के दोष के कारण यह जूते अशुभ हो जाते हैं. उपहार में मिले या चुराए गए जूतों को न पहने.

अधिक जानकारी के लिए देखें नीचे दी गई वीडियो. अगर किसी वजह से वीडियो न चले तो वीडियो देखने के लिए यहाँ क्लिक करें !

दोस्तों आपकी इस स्टोरी के बारे में कोई राय है तो ( Add Your Comment ) पर क्लिक करके अपनी बहुमूल्य राय अवश्य दें. धन्यावाद !