आपने कभी सोचा हैं ,कि हमेशा रविवार को ही क्यों छुट्टी होती हैं ? जानकर हैरान हो जायेंगे आप !

जानिए संडे ही क्यों होता है छुट्टी का दिन ?

दोस्तों छुट्टी एक ऐसा शब्द जिसका नाम सुनते ही हर किसी के मुंह पर अनायास ही एक ख़ुशी झलक पड़ती है. ख़ुशी हो भी क्यों न? भाग-दौड़ भरी इस जिंदगी में छुट्टी किसे नहीं प्यारी होती. भारत में तो आये दिन किसी न किसी कारण छुट्टियाँ आती ही रहती हैं. लेकिन एक छुट्टी है जो शायद किसी कारण नहीं आती.

दोस्तों जैसे की आप जानते हैं, सप्ताह शुरू होते ही हमें रविवार का इन्तजार रहता है क्योंकि रविवार ही वो दिन होता है जिस दिन छुट्टी होती है. हालाँकि ऐसा नही है की दुनिया के सारे देशों में रविवार को ही छुट्टी होती है लेकिन ज्यादातर देशों में रविवार को ही छुट्टी मनाई जाती है. लेकिन क्या आपने कभी सोचा है सप्ताह के 7 दिनों में से सिर्फ रविवार को ही छुट्टी का दिन क्यों चुना गया ?

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि जब हम अपने इतिहास को झांक कर देखते हैं तो हमे कुछ न कुछ जरूरी बातो का पता चलता हैं हमारे इतिहास में बहुत से राज छुपे हुए हैं. जिनको जानने का हमारे पास आज के समय में बिलकुल भी समय नहीं हैं लेकिन हम आपके लिए एक ऐसी विडियो लेकर आये हैं जिसमे हम आपको बताने वाले हैं कि रविवार को ही हमको छुट्टी क्यों होती हैं ?

अधिक जानकारी के लिए देखें नीचे दी गई वीडियो. अगर किसी वजह से वीडियो न चले तो वीडियो देखने के लिए यहाँ क्लिक करें !

दरअसल रविवार को छुट्टी होने के पीछे काफी संघर्ष की कहानी जुडी हुई है, जैसा की आप सबको पता है हमें आजादी के लिए कितना संघर्ष करना पड़ा था वैसे ही हमें सप्ताह में एक दिन छुट्टी के लिए भी काफी संघर्ष करना पड़ा था. दरअसल जब हमारे भारत वर्ष में ब्रिटिश सरकार का राज था तब हमारे मजदूरों को सप्ताह के सभी दिन काम करना होता था.

उस समय मजदूरों के नेता श्री नारायण मेघाजी लोखंडे हुआ करते थे, उन्होंने अंग्रेजों के सामने ये पेशकश की थी की हमारे मजदूरों को सप्ताह के एक दिन छुट्टी मिलनी चाहिए जिससे वो अपने परिवार के साथ एक दिन आराम से बिता सकें और अपने जरुरी काम निपटा सकें. रविवार को अंग्रेज चर्च जाते थे. ज्यादा जानने के लिए देखें ऊपर दी गई वीडियो.

अगर आपको दी गई जानकारी पसंद आई तो ऐसी ही और खबरों के लिए हमें फ़ॉलो कीजिए।
By: Neha Kamal on Tuesday, November 14th, 2017