एक रात के लिए पुनर्जीवित हुए थे महाभारत युद्ध में मारे गए वीर, जाने कैसे ?

दोस्तों वैसे तो आपने महाभारत के बारे में किताबों में बहुत कुछ पढ़ा होगा लेकिन उसके बावजूद भी उससे जुडी कुछ ऐसी रहस्यमयी बातें है जिन्हें आप शायद ही जानते होंगे . आज हम आपको महाभारत से जुडी एक अदभुत घटना के बारे में बताने जा रहे है जिसे पढ़कर आपको यकीन नही होगा लेकिन ये एकदम सत्य है और ये जानकारी आपको हम विडियो द्वारा देने जा रहे है.

कहते है महाभारत युद्ध के पूरे 15 साल बाद एक ऐसी अदभुत घटना घटी थी जिसके बारे में बहुत कम लोग जानते है उस समय महाभारत युद्ध में मारे गए समस्त शूरवीर जैसे की भीष्म, द्रोणाचार्य, दुर्योधन, अभिमन्यु, द्रौपदी के पुत्र, कर्ण, शिखंडी  आदि एक रात के लिए पुनर्जीवित हुए थे .

ये भी पढ़ें :- महाभारत के 5 प्रमुख श्राप, जिनका प्रभाव आज भी बना हुआ है !

महाभारत युद्ध के बाद युधिष्ठिर ने पुन: सिंहासन सम्भाल लिया था और वे अपने प्रत्येक कार्य को करने से पहले धृतराष्ट्र और गांधारी का आशीर्वाद लेते थे ये बात भीम को पसंद नही थी वह धृतराष्ट्र से थोड़े नाराज रहते थे. भीम धृतराष्ट्र और गांधारी को कई बार ऐसी बातें बोल देते थे जोकि उन्हें नही बोलनी चाहिए थी और इसी तरह एक बार उन्होंने कुछ ऐसा कह दिया जिसके बाद धृतराष्ट्र ने गांधारी के साथ वन में जाने का मन बना लिया.

धृतराष्ट्र गांधारी के साथ संजय, विदुर व कुंती भी वन गये थे जहाँ एक रात के लिए महाभारत में मारे गए सभी वीर जीवित हुए थे देखें विडियो !

महाभारत काल भारत में एक ऐसा काल माना जाता है जिसमें एक बार फिर से सच्चाई ने बुराई को मात दी थी और विजय पताका फहरायी थी , हालाँकि कुछ वामपंथी चाँदी के टुकड़ों पर पलने वाले लोग महाभारत काल की बातों पर हमेशा ऊँगली उठाते रहते हैं लेकिन ये महाभारत ही थी जिसमें पूरी दुनिया में सत्य एक बार फिर से स्थापित हुआ था और सत्ता के मद में ग़लत काम करने वालों की हार हुई थी ।

ये भी पढ़ें :- विडियो : मृत्यु के बाद महाभारत के इन 4 योद्धाओं की थी सबसे कठिन अंतिम इच्छा !

हमारा निवेदन है अगर ये लेख आपको पसंद आया हो तो इसे अवश्य शेयर करें ताकि महान हिंदू परम्पराएँ नयी पीढ़ी तक भी पहुँचें  ।

By: Thakur Mintu on Wednesday, July 12th, 2017