तेरह महीने से मोदी मिलने का समय ही नहीं दे रहे : यशवंत सिन्हा

जबलपुर। भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा ने एक बार फिर बागी तेवर दिखाते हुए दावा किया कि आज की भाजपा वह भाजपा नहीं रह गई है जो अटल बिहारी वाजपेयी एवं लाल कृष्ण आडवाणी के जमाने में थी। उनको शिकायत है कि मोदी उन्हें मिलने का समय नहीं दे रहे हैं।

सिन्हा ने कहा, आज जो भाजपा है वह अटल जी एवं आडवाणी जी की भाजपा नहीं है। उन्होंने कहा, अटलजी एवं आडवाणी जी के काम करने का जो तरीका था, जो शैली थी, वह बिलकुल भिन्न थी। सिन्हा ने कहा कि एक साधारण कार्यकर्ता जबलपुर से जाकर भाजपा के तत्कालीन राष्ट्रीय अध्यक्ष आडवाणी से पहले से समय लिए बिना मिल सकता था। लेकिन आज वह व्यवस्था बदल गई है। सिन्हा ने बताया, मैंने 13 माह पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिलने के लिए समय मांगा था। वह समय हमें आज तक नहीं मिला है। उन्होंने कहा, चूंकि समय नहीं मिला, तो मैंने तय किया है कि अब मैं सरकार में बैठे किसी भी व्यक्ति से बात नहीं करूंगा। बात होगी तो सार्वजनिक तौर पर होगी। बंद कमरे में नहीं होगी।
मध्य प्रदेश में भी किसानों के हालात ठीक नहीं
उन्होंने आरोप लगाया कि विपक्ष में रहते हुए भाजपा ने जिन मुद्दों का विरोध किया था, सरकार में आने के बाद उन मुद्दों को स्वीकार कर रही है। सिन्हा ने बताया कि देश में किसानों की कोई पूछ नहीं हो रही है। मध्य प्रदेश में भी किसानों के हालात ठीक नहीं हैं। किसानों को उनकी उपज के वाजिब दाम दिलाने के लिए मध्य प्रदेश सरकार द्वारा हाल ही में शुरू भावांतर योजना एवं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की फसल बीमा योजना को सिन्हा ने झुनझुना करार दिया।


बागी तेवर अपना चुके हैं सिन्हा
इससे पहले सिन्हा पिछले साल देश की आर्थिक स्थिति को लेकर भी अपनी ही पार्टी की केंद्र सरकार को घेरने के साथ-साथ पिछले महीने महाराष्ट्र के विदर्भ क्षेत्र के किसानों की मांगों को लेकर भी अपनी ही पार्टी की महाराष्ट्र सरकार के खिलाफ प्रदर्शन कर बागी तेवर अपना चुके हैं। उन्होंने कहा कि जब किसानों की खेती की जमीन को एनटीपीसी ने अधिग्रहण किया था, उस वक्त उन्हें नौकरी देने का वादा किया था।