DMCA.com Protection Status

लड़की अपने मंगेतर के जरा नजदीक खड़ी हो गई. फिर इस्लामियों ने क्या किया?

इस्लाम में महिलाओं की दयनीय स्थिति से कोई अनजान नहीं है! इस्लाम में बस नारी का शोषण ही होता आया है! फिर चाहे वो ट्रिपल तलाक दे कर या उसका हलाला निकाह कर के या फिर उसकी आबरू लूट कर! अगर गलती से किसी मुस्लिम महिला ने अपने हक़ के लिए आवाज़ उठा ली तो समझो उसने सबसे बड़ा गुनाह कर लिया! और उन्हें इसकी सज़ा भी भुगतनी पड़ेगी, फिर चाहे वो कितनी भी बड़ी क्यों न हो!

आज जहां नारी भी मर्द के साथ कंधे से कंधा मिलकर आगे बढ़ रही है! वहीं मुस्लिम महिलाएं इस्लाम धर्म के पुरुष प्रधान समाज में गुलामों की तरह जी रही है! और जल्लादों की तरह इनके साथ व्यवहार होता है!

इस्लाम के कानून में मर्दों के लिए कई तरह के अधिकार हैं, छूट हैं और लेकिन सज़ा न के बराबर है! वहीं औरतों के लिए एक से बढ़कर एक सज़ा मुकर्रर की गई हैं और वो भी ऐसी गल्तियों के लिए जो गलती है ही नहीं!

ऐसा ही कुछ हुआ इस अबला मुस्लिम महिला के साथ! जिसका कसूर सिर्फ इतना था कि वह अपने मंगेतर के थोड़ा पास खड़ी हो गई! लेकिन इस छोटी सी बात की जो सज़ा इस बेक़सूर को मिली, वो अमानवीय है!

islam-1

देखा आपने एक महिला पर सरेआम अत्याचार हो रहा है और लोग तमाशबीन की तरह मजे ले रहे हैं! पुलिस वाले खड़े देख रहे हैं, मीडिया वाले खबर बना रहे है और लोग अपने मोबाइल पर तस्वीर ले रहे हैं, विडियो बना रहे हैं!

लेकिन कोई भी इस महिला को बचाने आगे नहीं आता! ये है इस्लामिक कानून!

islam-2जरा शक्ल तो देखो सजा देने वाले की.. क्या लगता है.. ये इक्कीसवीं सदी है या फिर किसी भयानक ड्रेकुला फिल्म का दृश्य?

islam-3

औरतों के लिए, इस्लामिक कानून, जहर है.. या उससे भी परे! इस लड़की की चीखों की आवाज किसी तक नहीं पहुंचेगी! क्योंकि, ये इस्लामिक कानून है! शायद अल्लाह देख के खुश हो रहा हो?

islam-4

आखिर कब तक इस्लाम के इस एक तरफ़ा कानून के तले ये नारियां पिसती रहेंगी??

By: HStaff on Wednesday, October 19th, 2016

Loading...