आईएस इंटरव्यू : कंप्यूटर कीबोर्ड के बटन एक सीरिज में क्यों नही होते है ?

हम सभी रोजाना लैपटॉप और कंप्यूटर में काम करते है लेकिन अधिक से ज्यादा लोगो को अभी तक ये नही पता कि कीबोर्ड के बटन एक सीरीज में क्‍यों नहीं होते, इसका जवाब पढ़े ….

लाइफ और वर्क दोनों को इजी बनाने के लिए हर चीज सीरीज से होना जरूरी माना जाता है। इससे टाइम और एनर्जी बचने के साथ ही काम भी जल्‍दी पूरे हो जाते हैं। बावजूद इसके कीबोर्ड के मामले में ऐसा नही है। अक्‍सर लोगों के मन में सवाल उठते कि आखिर कीबोर्ड में दिए गए वर्णमाला के अक्षर एक क्रम में क्‍यों नहीं हैं। अगर आप भी ऐसा सोचते हैं तो आज हम आपको इसकी असली वजह बताने जा रहे है.

आपने देखा होगा कि कीबोर्ड पर अक्षर A के बाद B नहीं बल्‍कि S,D,F लिखे होते हैं। जब कि सामान्‍यत: अक्षरों की सीरीज में A के बाद B,C,D आता है। इसके पीछे यह नहीं कि कीबोर्ड बनाने वालों को अक्षर नहीं मालूम थे बल्‍कि टाइपराइटर से जुड़ी एक रीजनिंग छुपी है। 1868 में लैथम शोल्स ने पहला टाइपराइटर बनाया था। इस टाइपराइट में उन्‍होंने वर्णमाला के अक्षरों को क्रम में ही लिखा था। हालांकि इसे बनाने के कुछ दिन बाद उन्‍हें पता चला कि क्रम को सीधा रखने से बटन जाम हो रहे हैं।

इसके अलावा एक सीरीज में होने से बटनों को प्रेस यानी कि दबाने में भी परेशानी आ रही थी। इतना ही नही अक्षरों के पास-पास होने और बार-बार उपयोग की वजह से उनकी पिन आपस में उलझ जाती थीं। जिससे टाइपिंग बिल्‍कुल सही नहीं हो पाती थी। काफी गलतियां होती थीं। हालांकि इसके बाद 1873 में शोल्स ने एक नए तरीके से बटनों को टाइपराइटर में लगाया। इसमें उन्होंने सबसे पहले ज्यादा प्रयोग होने वाले अक्षरों का चयन किया। इसके बाद उन्‍हें उंगलियों की पहुंच के हिसाब से क्रम में लगाया।

इसमें उन्‍होंने E और I को पहली लाइन में और Z और X को नीचे वाली लाइन में सबसे कोने में सेट किया। जिससे अक्षरों वाली पहली लाइन Q,W,E,R,T,Y को क्वेर्टी नाम दिया। हालांकि बाद में यह मॉडल शोल्स से ‘रेमिंग्टन एंड संस’ ने खरीदा तो इसे इसी नाम से जाना जाने लगा। इसके बाद 1874 में रेमिंग्टन ने कई और कीबोर्ड भी बाजार में उतारे। इसके बाद टाइपराइटर के बाद जब कंप्‍यूटर चलन में आए तो उनमें भी उंगलियों की सहूलियत और अक्षरों के इस क्रम को अपनाने का प्रयास हुआ है।

पूरी जानकारी के लिए देखें नीचे दी गयी विडियो !

दोस्तों अगर आपको हमारी यह पोस्ट अच्छी लगे तो लाइक और शेयर जरूर कीजिए और ऐसे ही पोस्ट आगे भी पढ़ते रहने के लिए हमें फॉलो करना ना भूलें, क्योंकि हम हर रोज ऐसे ही पोस्ट आपके लिए लाते रहते हैं।