DMCA.com Protection Status

चीन की स्ट्रिंग ओफ़ पर्ल योजना को करारा झटका, श्रीलंका में लोगों ने भारत के पक्ष में किया बड़ा प्रदर्शन !!

दक्षिणी श्रीलंका में चीन के एक बंदरगाह और विशेष आर्थिक ज़ोन बनाने की योजना का कुछ लोग विरोध कर रहे थे कि पुलिस ने उनकी ख़ूब पिटाई की और उनमे से कुछ घायल भी हुए लेकिन लोगों ने बड़ी संख्या में चीन का विरोध किया है।  इस योजना के अंतर्गत सरकार हंबानतोता जो कोलंबो से करीब 240 किलोमीटर दूर है, उसके आसपास के गाँव की जमीन लीज़ कर रही हैं । सरकार का कहना है कि इन गाँवों को लीज पर रखकर स्थानीय लोगों को नई ज़मीनें आवंटित कर दी जाएंगी । प्रदर्शनकारियों पर पुलिस ने आंसूगैस के गोले दागे एवं पानी की बौछारें फेंकी ।

प्रदर्शनकारियों ने पथराव किया और प्रदर्शनकारियों का कहना है कि सरकार इस इलाक़े को चीन के उपनिवेश में बदल रही है. श्रीलंका की सरकार 99 साल के लिए ज़मीन लीज़ पर उस कंपनी को दे रही है जो  80% चीनी के स्वामित्व वाली है. इन इलाकों का इस्तमाल चीनी कंपनियां अपने कारखाने बनाने के लिए करने वाली है. विरोधियों का कहना है कि चीन का ये निवेश उसके मध्यपूर्व के समृद्ध बाज़ार और फिर आगे यूरोप तक समुद्री सिल्क रोड स्थापित करने की महत्वाकांक्षी योजना का हिस्सा है ।

प्रदर्शनकारियों का कहना है कि चीन की स्ट्रिंग ओफ़ पर्ल योजना केवल अपने फ़ायदे के लिए है । चीन दक्षिण एशिया पर अपना डेरा जमाना चाहता हैं. चीन श्रीलंका पर अपना प्रभाव बढ़ाना चाहता है जो नामुमकिन है । पाकिस्तान के बलूचिस्तान के बाद श्री लंका के लोग भी चीन का विरोध कर रहे हैं , धीरे धीरे ही सही पर भारत के आसपास के देशों के लोग चीन की चालबाज़ियों को समझ रहे हैं ।

By: Staff Writer on Monday, January 9th, 2017

Loading...