चीन में नमाज़ छोड़ो मस्जिद में घुसना भी मुश्किल, कहा क़ानून तोड़ा तो उलटा लटका देंगे !

मस्जिद जाने से पहले हर अल्पसंख्यक की ली जाएगी तलाशी…

बिगड़ते माहौल को देखते हुए अब चीन (China) ने फैसला किया है कि अल्पसंख्यकों को मस्जिद जाकर नमाज पढ़ने के लिए जाने से पहले मेटल डिटेक्टर (metal detector) के सामने से गुजरना होगा. इससे पहले मुस्लिमों के दाढ़ी रखने और खुले में नमाज पढ़ने पर रोक लगाई जा चुकी हैं. बता दें कि चीन ने एक बार फिर अल्पसंख्यकों पर निशाना साधा है. मस्जिद जाने में लिए लोगों को बहुत परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है.

post-feature-image

IMAGE CREDIT 

दरअसल चीन के पश्चिमी (Western) शहर काशगर (Kashagar) में अब अल्पसंख्यकों को मस्जिद में नमाज पढ़ने के लिए जाने से पहले मेटल डिटेक्टर के सामने से गुजरना होगा. ये नए कानून शिनजियांग प्रांत की उइगर अल्पसंख्यक आबादी पर चीन की कम्युनिस्ट सरकार ने किया है. इससे पहले भी चीन ने इसी प्रांत में दाढ़ी रखने और खुले में नमाज पढ़ने पर रोक लगा दी है. ईद के मौके पर अल्पसंख्यक एकत्रित होकर यहां नमाज पढ़ा करते थे लेकिन अब हालात बदल गए हैं.

सूत्रों के मुताबिक मस्जिद में नमाज के लिए दशकों बाद सबसे कम भीड़ आई थी. प्रशासन की ओर से मस्जिद आने वाले रास्ते पर कई जगह चेक प्वाइंट (Check point) बना दिये गए हैं. वहां लोगों को रोककर तलाशी ली जा रही है. उनके वाहन भी दूर ही खड़े कराए जा रहे हैं. इस से परेशान होकर लोगों ने मस्जिद में आना बंद या कम कर दिया है. काशगर के प्रशासन अधिकारियों ने इस बारे में कुछ नहीं कहा है. शहर के एक व्यापारी ने कहा कि यह शहर अब धार्मिक गतिविधियों के लिए अच्छा नहीं रहा है.

Image result for हर मुस्लिम की ली जाएगी तलाशी, मस्जिद के बाहर लगे मेटल डिटेक्टर

IMAGE CREDIT 

हालांकि चीन सरकार कहती है कि ऐसे कड़े इंतजाम इस्लामी कटरपंथ को रोकने और अलगाववाद को ताकत न मिलने देने के लिए किये जा रहे हैं. लेकिन विश्लेषक मानते हैं कि सरकार के इस रवैये से लोग परेशान हैं. वो खुद को कैदी की तरह महसूस कर रही हैं. यहां पर लोग रहते घरों में हैं और खुले आकाश के नीचे सांस लेते हैं फिर भी उन्हें हर काम पुलिस और सुरक्षा बलों की बंदिशों के बीच करना होता है.

गौरतलब है कि ऑस्ट्रेलिया (Australia) की ला ट्रोब यूनिवर्सिटी के चीन मामलों के विशेषज्ञ जेम्स लीबोल्ड कहते हैं कि चीन अप्रत्याशित ढंग से शिनजियांग में पुलिस राज चला रहा है. चीन सरकार ने प्रांत में कड़ाई की शुरुआत सन 2009 में उरुमकी शहर में हुए दंगों के बाद की जिसमें 200 लोग मारे गए थे.
By: hindutva Info Writer on Monday, July 17th, 2017