दुनिया की सबसे ताक़तवर मिसाइल हुई लद्दाख़ में तैनात, इस बार तो रो ही पड़ा चीनी मीडिया !

चीन की तरफ से लगातार हो रही घुसपैठ की कोशिशों का जवाब देने के लिए भारत सरकार ने एक बहुत ही सख्त और महत्त्वपूर्ण कदम उठाया है . दरअसल भारत-चीन की सीमा पर दुनिया की सबसे तेज मिसाइल ब्रम्होस को तैनात करने का फैसला लिया गया है . इस पर मोदी सरकार ने कहा कि इस मिसाइल की सीमा पर तैनाती पारंपरिक शक्ति सामंजस्य के तहत की जा रही है .

बता दें कि इन्हें “Trajectory Manoeuvre And Steep-Dive Capabilities” से भी लैस किया जायेगा जोकि पहाड़ों पर युद्ध में भारत को विजय दिलाएंगी . प्रधानमंत्री मोदी की अध्यक्षता में हुई सुरक्षा सम्बन्धी कैबिनेट बैठक में सरकार ने इस प्रस्ताव को मंजूरी दी और इसके 4300 करोड़ के बजट का आवंटन किया है . 290 किलोमीटर तक मार्क क्षमता वाली यह मिसाइल अपने साथ 300 किलो तक के परमाणु हथियार ले जा सकती है . ब्रम्होस मिसाइल नेवी, आर्मी और एयरफोर्स तीनों के लिए ही उपयुक्त है . इसकी स्पीड 2.8 मैक है, दुश्मन के रडार और सुरक्षा घेरे को भेदने में सक्षम है और इसको अरुणाचल प्रदेश में चीन से जुड़ी सीमा पर तैनात किया जाएगा . सरकार  चीन के बॉर्डर से जुड़ी भारतीय सीमा के पूरे 4057 किलोमीटर के LOC पर मिसाइल तैनात करने की है . ब्रम्होस-III 75 डिग्री तक घूमकर मार करने में सक्षम है और DRDO के वैज्ञानिक इसे 90 डिग्री करने का प्रयास कर रहे हैं .

ब्रह्मोस एयरोस्पेस के मुख्य अधिकारी सुधीर मिश्र ने कहा,”भारतीय वायुसेना 2500 किलोग्राम की सुपरसोनिक मिसाइल को लेकर उड़ान भरने वाली दुनिया की पहली एयरफोर्स बन गयी है” उन्होंने आगे कहा है कि भारत पहला ऐसा देश बन गया है जिसकी वायु सेना के पास सुपरसोनिक मिसाइल को हवा से दागने की तकनीक है . हम आने वाले समय में ऐसे और भी कई परीक्षण करेंगे जिनमें हवा से जमीन पर मार करना और हवा से हवा में मार करना आदि तकनीके शामिल होंगे . जिसके बाद भारतीय वायु सेना कई गुना और घातक हो जाएगी .

By: Jyoti Kala on Friday, February 17th, 2017