अमीर मोहम्मद अली साहेब ने ही खोल दी कट्टरपंथ की पोल, शेयर किया विडियो !

एक साहेब है अमीर मोहम्मद अली , FB पर काफ़ी प्रसिद्ध है , काफ़ी लिखते हैं  , कट्टरपंथ के ख़िलाफ़ उनके तर्क के सामने बड़े बड़े चित्त हो जाते हैं , उग्रता और आतंक को समर्थन देने वाले उनको Fake बताते हैं , उनकी बातों को नकारते हैं ।

लेकिन सच को कोई कैसे दबा सकता है और कोई कैसे विडियो में कही गयी बातों को नकार सकता है वो भी तब जब हज़ारों की भीड़ के सामने सीना ठोककर कुछ कहा जा रहा हो , इसमें हिंदू और मुस्लिम का भेद करना सरासर बेवक़ूफ़ी ही कही जायगी क्यूँकि कट्टरपंथ का मजहब खोज पाने में अभी तक भारत का मीडिया नाकाम रहा है। मीडिया के लिए प्यारी ये फ़ोटो देख लीजिए

Image Credit 

वही भारत का मीडिया एक मिनट में मज हब खोज लेता है जब किसी की तारीफ़ करनी हो, किसी को सर पर चढ़ाना हो, किसी ख़ास समुदाय के व्यक्ति की दुखद हत्या का आरोप बहुसंख्यक समाज पर डालना हो तब मज हब की जानकारी सहज ही उपलब्ध हो जाती है, इसे दोगलपन भी कहा जा सकता है और डर की वजह से किया गया काम भी।

इसे पैसे के लिए ड्रामा करने की भी संज्ञा दी जा सकती है क्यूँकि मीडिया के ग्रूप तो हमेशा से ही कुछ ख़ास लोगों का पक्ष लेते आए हैं और उनका पक्ष लेकर भी निस्पक्ष होने का ढोंग भी सफलता से पीटते आए हैं , कौन कहता है कि झूठ का पर्दाफ़ाश हो जाता है और सच की जीत होती है  ?  लोगों को ऐसी फ़ोटो भी काफ़ी प्यारी लगती है :-

Image credit 

 

पूरी दुनिया में ख़ून की नदियाँ बहाने वालों के मजहब की जानकारी किसे नहीं है  ? लेकिन झूठ ही तो बेचा जा रहा है  , कितने की सालों से देश के ऊपर हमला करके लाखों देश वासियों को मार देने वाले तैमुर , मुहम्मद गौरी, हुमायूँ अकबर , बाबर , औरंगज़ेब को महिमामंडित करके झूठ ही तो बेचा जा रहा है  ? कौन थे ये लोग ? विदेशी हमलावर ही तो थे ना ? क्यूँ आए थे यहाँ  ? इस देश पर हमला करके यहाँ क़ब्ज़ा करने ही तो आए थे ना  ?

लेकिन ख़ूब इनकी तरीफे की गयी , ख़ूब इनके ऊपर किताबें लिखी गयी क्यूँकि झूठ का बोलबाला सदा क़ायम रहा , सच की विजय ना हो पायी , अंग्रेज़ों के ख़िलाफ़ आज़ादी आंदोलन में जान देने वाले उग्रवादी हो गए और एक लाठी भी ना खाने वाले महिमा मंडित हो गए कि आज़ादी उन्होंने दिलवायी है ।

ख़ैर अभी ये विडियो देख लीजिए और इसको देखने के बाद कुछ समय के लिए अपना राष्ट्रीय भाव जगा लीजिए और फिर भूल तो जाइएगा ही क्यूँकि भूल जाना आपकी ऐसी आदत है जिसने आपको सदियों से प्रताड़ित किया है , और आप इस आदत को छोड़ नहीं पा रहे , अमीर मोहम्मद अली साहेब को साधुवाद जो उन्होंने अपनी FB वॉल पर ऐसी विडियो शेयर की  :-

By: HStaff on Thursday, July 13th, 2017