इंद्र के इस श्राप के कारण हर माह महिलाओं को भोगनी पड़ती है ये पीड़ा !

ओह तो ये है पूरी कहानी !!

जैसा की हर महिला को मासिक धर्म होता है और डॉक्टर भी इसे एक सामान्य प्रक्रिया मानते है तो वही धार्मिक मान्यताओं के अनुसार इसे स्त्री की कमजोरी भी माना जाता है कई बार हर महिला के मन में ये प्रश्न उठता है कि आखिर महिलाओं को ही क्यों मासिक धर्म की पीड़ा होती है इसके पीछे क्या कारण है ?

धार्मिक मान्यताओं के मुताबिक़ इसके पीछे का कारण इंद्र द्वारा दिए गए श्राप को माना जाता है आज हम आपको बताएंगे कि आखिर इंद्र ने स्त्रियों को ये श्राप क्यों दिया . भागवत पुराण के अनुसार ये कहानी तब की है जब देवताओं के विरुद्ध देवराज इंद्र क्रोधित हो गए, इसी का फायदा उठाकर असुरो ने स्वर्ग पर आक्रमण कर दिया और इंद्र को अपना आसन छोड़कर भागना पड़ा .

इसके बाद इंद्र की इस समस्या का निवारण करते हुए ब्रम्हा ने कहा कि उन्हें किसी ब्रह्मज्ञानी की सेवा करनी चाहिए इससे उन्हें उनका आसन वापिस मिल सकता है इसी बात को मानकर इंद्र देव ने ब्रह्मज्ञानी की सेवा की . ब्रह्मज्ञानी की माता एक असुर थी इस बात से इंद्र अनजान थे .

फ़िलहाल यहाँ पर इतना ही आगे की कहानी के लिए देखिए नीचे दी गयी वीडियो !