179 पर आउट हुए, 179 पर आउट किया, 154 से हारे थे, 154 से हराया…इसे कहते हैं सुप्रीम बदला !

एक दम बराबरी का बदला, न एक चौका ज्यादा न एक विकेट कम…

दोस्तों आज हम आपको एक ऐसी खबर देने जा रहे हैं जिसे जानकर उड़ेंगे आपके होश. आईसीसी रैंकिंग में नीचे की टीमों के बीच काफी कड़े मुकाबले देखने को मिलते हैं. क्योंकि ये टीमें बराबर की होती हैं तो मुकाबले भी टक्कर के होते हैं. फिलहाल यूएई में अफगानिस्तान और जिम्‍बाब्‍वे के बीच पांच वनडे मैचों की सीरीज चल रही है. सीरीज में दोनों टीमों के बीच कड़े मुकाबले चल रहे हैं.

अफगानिस्तान ने 154 रन से जिम्बाब्वे को हराया !

आज हम बात कर रहे है क्रिकेट के बदले की. आपन क्रिकेट में कई बार देखा होगा कि 0 पर आउट हो जाएं और जिस बॉलर ने आउट किया हो, उसे 0 पर आउट कर दें. आपके ओवर में तीन छक्के पड़े हों और जिसने मारे हों उसी की बॉल पर आप तीन छक्के मार दो. पिछले मैच में आपकी टीम जितने रनों से हारी हो, उतने ही रनों से आप सामने वाली टीम को हरा दो ऐसा देखा होगा.

लेकिन जैसा क्रिकेट का बदला हम आप को बता रहे है जिसे सुन कर आप भी कहेंगे ये होता है परफेक्ट बदला.आज हम आप को जिंबाब्वे और अफगानिस्तान के एक मैच के बारे में बता रहे है जो बदले का उदाहरण बन गया. हुआ कुछ यूँ कि इन दोनों के बीच चल रही सीरीज के पहले मैच में अफगानिस्तान ने जीता था. जीत भी ऐसी वैसी नहीं बुरी तरह अफगानिस्तान ने 154 रन से जिम्बाब्वे को हराया.

जिसके बाद दुसरे मैच में जिम्बाब्वे अपना परफेक्ट बदला ले लिया. इस परफेक्ट बदले को आकंडे के अनुसार जानिए.पहले मैच में अफगानिस्तान ने पहले खेलते हुए पांच विकेट खोकर 333 रन बनाए थे. इसके बाद जिंबाब्वे को 179 रन पर ऑलआउट कर दिया था परिणाम स्वरूप अफगानिस्तान 154 रन से हार दिया गया.

अब बारी आई दूसरे वनडे में जिंबाब्वे ने पहले बलेबाजी करते हुए 333 रन बनाए वो भी 5 विकेट ही खो के. जिसके बाद गेंदबाजी में भी सेम अफगानिस्तान को 179 के स्कोर पर रोक दिया. इस तरह पूरा हुआ परफेक्ट बदला.जो मैच  11 फरवरी को को हुआ.

वो उसमें ब्रैंडन टेलर ने 125 रनों की पारी खेली जिन्हें इस मैच में मैन ऑफ़ द मैच मिला. इस मैच में जिम्बाब्वे ने टॉस जीत कर पहले बलेबाजी का फैसला किया. अब इस सीरिज में दोनों टीम 1-1 के बराबरी पर है.

अगर आपको दी गई जानकारी पसंद आई तो ऐसी ही और खबरों के लिए हमें फ़ॉलो कीजिए।