आज 5 बजे से शुरू हो चुका है पंचक नक्षत्र 25 अप्रैल तक रहेगा प्रभाव ना करें इन दिनों .

गृह नक्षत्र हमारे जीवन में काफी प्रभाव डालते है. इसलिए कहा जाता है कि किसी भी शुभ काम से पहले शुभ मुहूर्त होना बहुत जरुरी होता है. क्यूंकि अगर हम शुभ मुहूर्त में काम करते है तो वो काम बिना किसी बाधा के सफल हो जाता है.

शुभ मुहूर्त नक्षत्रों के हिसाब से निकाला जाता है. हिन्दू पंचाग में पंचक को शुभ नक्षत्र नहीं माना जाता है. नक्षत्रों से बनने वाले मेल को पंचक कहा जाता है. धनिष्ठा, शतभिषा, पूर्वा भाद्रपद, उत्तरा भाद्रपद एवं रेवती भी ऐसे ही पांच नक्षत्रों का एक समूह है. धनिष्ठा के प्रारंभ होने से लेकर रेवती नक्षत्र के अंत समय को पंचक कहते हैं. जब चंद्रमा कुम्भ और मीन राशि पर रहता है तो उस समय को पंचक कहते है. आज से 5.50 पर पंचक शुरू हो गया है.

पंचक में कोई भी शुभ काम नहीं किया जाता है विशेषकर लेनदेन, कोई भी यात्रा, व्यापार और बड़ी-बड़ी बिज़नस डील. पंचक 25 अप्रैल तक 1.26 मिनट तक रहने वाला है. पंचक का अर्थ है – पांच, पंचक चन्द्रमा की स्थिति पर आधारित गणना हैं.

पंचक में क्या करें क्या ना करें ये जाने नीचें दी गई विडियो में. विडियो को देखकर ये भी जाने की पंचक के दौरान कैसे क्या करना चाहिए.

By: Staff Writer on Friday, April 21st, 2017

Loading...