बचपन में झील में उठते दिखे थे बुलबुले,50 साल बाद अंदर से जो निकला उसे देख …

विडियो देखने के लिए क्लिक करे !!!

अक्सर हमारे साथ कभी-कभार ऐसा होता है जब हम अपने आसपास की उन चीजो को अनदेखा कर देते है जो हमारे बहुत काम की होती है इस खबर को पढने के बाद आप समझ जायेंगे हम कहना क्या चाहते है …

यूरोप के एक देश एस्टोनिया में एक युवक की बचपन की याद ने बड़ा कारनामा कर दिखाया है यह एक ऐसा मामला है जिसने यह साबित किया है कि अगर आपके दिल में कोई भी बात है तो आप उसे लोगो से जरुर बताए . अक्सर कई बार हम अपने मन की बात लोगो से कहने से डरते है या फिर हिचकिचाते है ये सोचकर वे क्या बोलेंगे . लेकिन आज जो बात हम आपको यहाँ बताने वाले है उसे पढने के बाद आप भी अपनी बात दुसरो को बताने के लिए बाध्य हो जाने वाले है .

एक शख्स की बचपन की याद ने 50 साल के बाद बहुत बड़ी खोज की है. दरअसल साल 1944 में एस्टोनिया में रहने वाले एक छोटे से बच्चे ने अपने घर के नजदीक कुर्तना झील से कुछ बुलबुले उठते हुए देखें थे. लेकिन बचपन की अठखेलियों के चलते उस समय उसने उ बुलबुलों को साधारण समझ लकर जाने दिया. हालांकि उसने उन बुलबुलों को याद जरुर रखा था वो उन्हें भूल नही पाया था.

इस घटना के लगभग 50 साल बाद उसे वो बुलबुले फिर से याद आए. लेकिन इस बार उसकी याद ने एक अनोखी खोज कर डाली. उसने अपने सोशल अकाउंट पर इस पूरी घटना को शेयर किया है. सोशल अकाउंट पर शेयर किया है. जिसके बाद उसकी कहानी इतिहास इ रूचि रखने वाले कुछ लोगो तक पहुंचाई गयी. शोधकर्ताओं ने शख्स द्वारा बताई गयी झील में लगभग 8 घंटे के बाद कुछ ऐसा निकाला, जिसकी कोई कल्पना भी नही कर सकता है .

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि झील के अंदर से दुसरे विश्वयुद्ध का एक 30 टन वजनी लडाकू टैंक डूबा हुआ था जो बरामद किया गया. इस टैंक का इंजन अभी भी काम कर रहा था. अगर इस शख्स ने अपने बचपन की याद और उन बुलबुलों को भुला दिया होता तो शायद इतिहास की यह सबसे बड़ी खोज कभी नही हो पाती और ये एक गुप्त रहस्य ही रह जाता .

पूरी जानकारी के लिए देखें नीचे दी गयी विडियो !

दोस्तों अगर आपको हमारी यह पोस्ट अच्छी लगे तो लाइक और शेयर जरूर कीजिए और ऐसे ही पोस्ट आगे भी पढ़ते रहने के लिए हमें फॉलो करना ना भूलें, क्योंकि हम हर रोज ऐसे ही पोस्ट आपके लिए लाते रहते हैं।