जम्मू-कश्मीर में सेना 180 दिनों में किया 108 आतंकियों का सफाया, आतंकियों को हुई हथियारों की कमी !

0
48

Sharing is caring!

देश के दुश्मनों के फन के कुचलने के लिए सेना ने मोर्चा संभाल लिया है, कश्मीर के दुश्मनों को चुन-चुनकर सजा दी जा रही है, सेना ने पिछले छह महीने में 101 आतंकियों को ढेर कर दिया है. घाटी में आतंकियों पर सेना का आखिरी प्रहार चल रहा है. घाटी की फिजा में जहर घोलने वालो की बस एक ही जगह है जहन्नुम. घाटी में छिपे आतंकियों का सेना चुन-चुनकर सफाया कर रही है. सुरक्षाबलों के एक्शन के सामने आतंकियों का बचना मुश्किल है.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि सुरक्षाबलों ने 180 दिनों में 101 आतंकियों को मौत के घाट उतार दिया है. 2018 में घाटी के 82 युवको ने आतंक का रास्ता पकड़ा. सुरक्षाबल ने पहले ही साफ कह दिया था कि आतंक की राह पर चलने वाले हर व्यक्ति की सजा मौत है. सेना के सख्त रवैये को स्थानीय लोग भी समझ गए है और अपने बच्चो को हथियार छोडकर सही राह पर लाने की पहल कर रहे है. बड़ी संख्या में आतंकियों ने आत्मसमर्पण भी किया है.

image credit 

इस साल सबसे ज्यादा दक्षिण कश्मीर के पुलवामा, शोपिया के युवा आतंकवाद से जुड़े. दोनों जगहों के 20-20 युवक शैतानो की राह पर चल पड़े है. बीते कल शोपिया में मारे गए दोनों आतंकी स्थानीय थे. मारे गये एक आतंकी के सुरक्षाबलों के फंदे में फंसने की खबर जब उसके घर तक पहुंची तो पिता को दिल का दौरा पड़ने से उनकी मौत हो गयी. ख़ुफ़िया सूत्रों के मुताबिक आतंकी संगठन में शामिल युवको को नाममात्र की ट्रेनिंग देकर आंतक की अंधी राह में धकेलते है.

इसके साथ ही आपको एक और अच्छी खबर बता दें कि सीमा पर लगातार सैनिको के तैनात रहने के कारण आतंकी लगातार हथियारों की कमी झेल रहे है. आने वाले समय में आतंकवादी हथियार की कमी होने के कारण हथियार छीनने पर भी ज्यादा ध्यान देने वाले है.

Sharing is caring!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here