जब भारतीय सीमा में पड़े एक पत्थर को छुया चीनी सैनिक ने तो उसके हाथ ही काट डाले और….

हो सकता है की चीन के पास भारत से ज्यादा सैनिक और अच्छी टेक्नोलॉजी हो लेकिन जब बात भारतीय सेना की होती है तो हमारे देश के सैनिकों में जोश की कोई कमी नहीं. ये घटना है 1962 के भारत चीन युद्ध के बाद की जब दोनों देशों के बीच तनाव बहुत बढ़ गया था. भारत-चीन की सीमा के पास एक इलाका है जिसका नाम चोला पास है. वर्ष 1967 में जब दोनों सीमाओं पे सैनिक तेनात थे तो एक चीनी सैनिक ने आगे आकर भारतीय सीमा में पड़े एक पत्थर पे अपना हक़ जाताना चाहा. उस चीनी सैनिक ने इशारे में बात की. इस पर भारतीय सीमा में खड़े एक सैनिक ने गुस्से और इशारे में उस चीनी सैनिक से कहा “हाथ लगा के दिखा”. बस फिर क्या था, जैसे ही उस चीनी सैनिक ने पत्थर को हाथ लगाया, भारतीय सैनिक ने तुरंत ही उसके दोनों हाथ खुखरी से काट दिए.

आपको बता दें की ये घटना 1967 की है और इस पत्थर को लेकर सीमा पे दोनों देशों के बीच जंग भी हुई थी. दोनों सेनाएं सीमा पे एक दुसरे से करीब 10 फीट की दूरी पे खड़े थे जब एक चीनी सैनिक ने आगे आकर भारतीय सीमा में पड़े पत्थर पे अपना हक़ जताना चाहा. जब उस भारतीय सैनिक ने चीनी सैनिक के हाथ काट दिए तो गुस्से में चीनियों ने भारतीय सेना पे हमला कर दिया. इस हमले में 21 भारतीय सैनिक शहीद हो गए थे लेकिन फिर भी चीनी उस पत्थर पे कब्ज़ा नहीं कर पाए थे.

इस घटना के करीब 15 दिन पहले ही भारत ने चीन के 400 सैनिकों को मार गिराया था जिसकी वजह से चीनी तिलमिलाए हुए थे. ये युद्ध तब हुआ जब भारत का एक इंजिनीरिंग यूनिट नाथुला पास के सीमा पे कंटीली बाड लगा रहा था लेकिन चीनियों ने उन पर धोखे से हमला कर दिया जिसमे भारत के 67 जवान शहीद हुए थे. उसके बाद भारतीय सैनिकों ने बदला लेने की ठान ली और चीन के 400 सैनिकों को मार गिराया था.

भारतीय सैनिकों के इस दमदार रैवैये को देखकर आज भी चीनियों की हिम्मत नाथुला और चोला पास के इलाको के पास आने की नहीं होती. अगर ये घटना सुनकर आपको भारतीय सेना पे गर्व महसूस होता है तो इसे शेयर ज़रूर कीजिये ताकि ज्यादा लोग इस बारे में जान सके. सिर्फ भारतीय ही नहीं पूरे विश्व को पता होना चाहिए हमारे सैनिकों के साहस और शौर्य का!!

By: Vishal Kashyap on Thursday, February 16th, 2017

Loading...